सोने की तरह तपकर निकलेगा देश: मोदी

Narendra Modi
इमेज कैप्शन,

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को यूपी के आगरा में भारतीय जनता पार्टी की परिवर्तन रैली में भाषण देते हुए कहा कि 500 और 1000 रूपये के नोट बंद करने से भले ही आप लोगों को कष्ट हो रहा है, लेकिन इस तप से देश सोने की तरह तपकर बाहर निकलेगा.

रैली में अपने भाषण की शुरूआत में पीएम मोदी ने कानपुर में हुई रेल दुर्घटना के बारे में संवेदना व्यक्त की. उन्होंने कहा कि दुर्घटना की जांच होगी. इसके अलावा उन्होंने पीएम राहत कोष से मृतकों के परिवार के लोगों को 2 लाख रुपये मुआवज़े का एलान किया.

नोटबंदी के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपके सपने सच होकर रहेंगे".

पीएम मोदी ने कहा, "मैंने कालाधन और भ्रष्ट्राचार पर लगाम लगाने के लिए जो क़दम उठाया है उसमें आम लोग मदद कर रहे हैं. मैंने 50 दिन कहा है और पहले ही दिन कहा था कि ये काम बहुत बड़ा है जिसमें समय लगेगा, तकलीफ़ उठानी पड़ेगी. असुविधा होगी ऐसा मैंने पहले दिन ही कहा था. लेकिन आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपका तप कभी बेकार नहीं जाएगा, देश सोने की तरह तपकर बाहर निकलेगा."

इमेज कैप्शन,

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

उन्होंने कहा कि उन्होंने 8 नवबंर को भी कहा था कि वे दो तीन दिन में व्यवस्था का मूल्यांकन करेंगे. अगर थोड़ा लचीला होना पड़ा तो होंगे.

मोदी ने कहा कि जो लोग नेता के अगल बलग रहते थे वे लाइन में उन्होंने पुराने नोट से बिजली के बिल जमा किए और जिन नगर पालिकाओं में 5 करोड़ रूपये के बिल जमा होने भी मुश्लिक होते थे वहां 15 करोड़ रूपये जमा हुए.

पीएम मोदी ने कहा कि नोटबंदी के फ़ैसले से देश को लूटने वाले तबाह हो गए हैं. आज 20 तारीख़ हुई है और बैंकों में 5 लाख करोड़ रुपये जमा हो गए हैं.

पीएम ने कहा कि बच्चों को स्कूल में दाख़िला दिलाने में स्कूलवालों की मांग पर 2 से 5 हज़ार रूपया नग़द देने पड़ते हैं. जिससे एक ग़रीब ईमानदार आदमी को भी मजबूरन बैंक खाते से अपना गोरा धन निकालकर स्कूल वाले को नग़द में देना पड़ता है. उन्होंने कहा कि इस क़दम से ग़रीब, मध्यम वर्ग के मां बाप बच्चों को स्कूल में अच्छी शिक्षा दिला पाएंगे.

इमेज कैप्शन,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगर में परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए

पीएम ने बताया कि घर ख़रीदते समय भी अपने सफ़ेद धन को निकालकर मकान बेचने वाले को नग़द में देना पड़ता है. उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने इस देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करके देश के ग़रीब और मध्यमवर्ग को लूटा है.

पीएम मोदी ने कहा कि 500 और 1000 रुपये बंद करने से लोगों को असुविधा हुई है लेकिन कुछ लोगों की तो ज़िंदगी तबाह हो जाए उन्हें ऐसा दंड दिया है.

इससे पहले प्रधानमंत्री ने आगरा में एक बड़ी आवासीय योजना का शुभारंभ भी किया. साल 2022 तक सभी के लिए आवास योजना के तहत अगले तीन सालों में 1 करोड़ मकान बनाने का लक्ष्य तय किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)