मोदी की नोटबंदी पर 'राय' देना आसान नहीं

इमेज कॉपीरइट Google Playstore

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के फ़ैसले पर आम जनता से राय मांगी है.

राय देने के लिए आपके पास स्मार्टफ़ोन और इंटरनेट कनेक्शन होना ज़रूरी है.

इस रायशुमारी में शामिल होने के लिए आपको उनका ऐप डाउनलोड करना होगा. लॉग इन करने के बाद आप नौ सवालों के जवाब और अपनी राय दे सकते हैं.

नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ट्वीट किया, ''पुराने नोटों पर लिए गए फ़ैसले पर मैं सीधे आपकी राय जानना चाहता हूं. NM App पर इस सर्वे में हिस्सा लीजिए http://nm4.in/dnldapp.''

आठ नवंबर की शाम प्रधानमंत्री ने 500 और 1000 की करेंसी पर पाबंदी का ऐलान किया था.

सर्वे में सवाल कुछ इस तरह हैं:

1. क्या आपको लगता है कि भारत में काला धन है?

हां

नहीं

इमेज कॉपीरइट NM App

2. क्या आपको लगता है कि भ्रष्टाचार और काले धन के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ने और इस समस्या को दूर करने की ज़रूरत है?

हां

नहीं

3. आप काले धन की समस्या से निपटने के लिए सरकर द्वारा उठाए गए क़दमों के बारे में क्या सोचते हैं?

बेकार हैं

अपर्याप्त हैं

ठीक हैं

प्रभावी हैं

अभूतपूर्व हैं

4. आप भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ मोदी सरकार द्वारा अब तक किए गए प्रयासों के बारे में क्या सोचते हैं?

बेकार हैं

अपर्याप्त हैं

ठीक हैं

प्रभावी हैं

अभूतपूर्व हैं

इमेज कॉपीरइट NM App

5 आप 500 और 1000 के पुराने नोट को बंद करने के मोदी सरकार के निर्णय के बारे में क्या सोचते हैं?

बेकार हैं

अपर्याप्त हैं

ठीक हैं

प्रभावी हैं

अभूतपूर्व हैं

6. क्या आपको लगता है कि डिमोनेटाइज़ेशन के काला धन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद को रोकने में मदद मिलेगी?

इसका तुरंत प्रभाव पड़ेगा

इसका प्रभाव पड़ने में समय लगेगा

कम प्रभाव पड़ेगा

पता नहीं, कह नहीं सकते

इमेज कॉपीरइट NM App

7. डिमोनेटाइजेशन से रियल एस्टेट, उच्च शिक्षा, हेल्थकेयर तक आम आदमी की पहुंच बनेगी?

पूर्ण रूप से सहमत हैं

थोड़ा सहमत हैं

कह नहीं सकते

8. भ्रष्टाचार, काला धन, आतंकवाद और नकली नोटों पर अंकुश लगाने की लड़ाई में हुई असुविधा को आपने कितना महसूस किया?

बिल्कुल महसूस नहीं किया

थोड़ा बहुत किया लेकिन यह ज़रूरी था

हां महसूस किया

9. क्या आप मानते हैं कि भ्रष्टाचार का विरोध करते रहे कई आंदोलनकारी और नेता अब वास्तव में काले धन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद के समर्थन में लड़ रहे हैं?

हां

नहीं

इमेज कॉपीरइट NM App

10. क्या आपके पास कोई सुझाव या विचार है जो आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शेयर करना चाहते हैं?

कम से कम पांच शब्द में लिखें

छठे और सातवें सवाल में आपको 'नहीं' कहने का विकल्प नहीं मिलेगा और नौंवे सवाल में मोदी सरकार ने अपने विरोधियों को लपेटने की कोशिश की है.

सवाल ये है कि देश के लाखों-करोड़ों लोगों को प्रभावित करने वाले इस फ़ैसले से जुड़े सर्वे में असल में कितने लोग हिस्सा ले सकेंगे?

भारत में बड़ी आबादी के पास फ़ोन की सुविधा बढ़ रही है, लेकिन उसमें स्मार्टफ़ोन की संख्या अब भी सीमित है.

smsglobal.com के मुताबिक़ भारत में स्मार्टफ़ोन की संख्या 2016 के अंत तक 20 करोड़ पर पहुंच जाएगी. इसका मतलब ये हुआ कि देश की ज़्यादातर आबादी इस सर्वे तक पहुंच ही नहीं पाएगी.

नोटबंदी के मुद्दे पर प्रधानमंत्री की राय मांगने की पहल अच्छी है, लेकिन गांव-क़स्बों में बसने वाली जिस आबादी पर नोटबंदी का सबसे ज़्यादा असर हुआ है, उनमें हर हाथ में स्मार्टफ़ोन आज भी नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे