नहीं रहे मशहूर पत्रकार दिलीप पडगांवकर

पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम को कश्मीर पर अपनी रिपोर्ट सौंपते दिलीप पडगांवकर

इमेज स्रोत, PTI

इमेज कैप्शन,

पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम को कश्मीर पर अपनी रिपोर्ट सौंपते दिलीप पडगांवकर (बीच में) - फ़ाइल फ़ोटो

वरिष्ठ पत्रकार और वर्षों तक अंग्रेज़ी अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया के संपादक रहे दिलीप पडगांवकर का पुणे में निधन हो गया है. वे 72 वर्ष के थे.

पिछले कुछ दिनों से पडगांवकर पुणे के रूबी अस्पताल में भर्ती थे. उन्हें किडनी की बीमारी थी, जिसका इलाज चल रहा था.

1944 में पुणे में पैदा हुए दिलीप पडगांवकर ने फ्रांस के सॉरबॉन विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट किया था और उनकी पहली नियुक्ति टाइम्स ऑफ़ इंडिया (टीओआई) के पेरिस संवाददाता के तौर पर हुई थी.

भारत वापस लौटने के बाद उन्हें टाइम्स ऑफ़ इंडिया के दिल्ली और मुंबई संस्करण का सहायक संपादक बनाया गया.

टीओआई के संपादक रहते हुए उन्होंने कहा था कि भारतीय प्रधानमंत्री के बाद टीओआई के संपादक का पद देश का सबसे महत्वपूर्ण पद है. उनके इस बयान की देश भर में काफ़ी चर्चा भी हुई थी.

1988 में पडगांवकर टाइम्स ऑफ़ इंडिया के संपादक बने थे.

इससे पहले आठ साल तक उन्होंने यूनेस्को के लिए भी काम किया था. इस दौरान उन्होंने बैंकॉक और पेरिस में लंबा वक्त गुज़ारा.

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
विवेचना

नई रिलीज़ हुई फ़िल्मों की समीक्षा करता साप्ताहिक कार्यक्रम

एपिसोड्स

समाप्त

पडगांवकर शारजाह से प्रकाशित होने वाले अख़बार गल्फ़ टुडे के भी संपादक रहे. साल 2002 में उन्हें पत्रकारिता के लिए फ़्रांस के सबसे बड़े नागरिक सम्मान से नवाज़ा गया.

1975 में इमरजेंसी के दौरान पडगांवकर ने लिखकर विरोध करने का एक नया तरीका अपनाया था. वे अर्जेंटीना पर लेख लिखते थे और भारत की तुलना वहां की तानाशाही से किया करते थे. वे अर्जेंटीना के माध्यम से भारत में इमरजेंसी पर निशाना साधते थे. उस समय इज़ाबेल पेरों अर्जेंटीना की राष्ट्रपति थीं.

दिलीप पडगांवकर मनमोहन सिंह सरकार के लिए कश्मीर मुद्दे पर वार्ताकार भी रहे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)