हम भ्रष्टाचार बंद करना चाहते हैं, वो भारत: मोदी

  • 27 नवंबर 2016
इमेज कॉपीरइट Facebook/Narendra Modi

नोटबंदी के फ़ैसले की पैरवी करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि एक तरफ़ उनकी सरकार भ्रष्टाचार के रास्ते बंद करने में लगी है और दूसरी तरफ़ विपक्षी दल भारत बंद करने में लगे हैं.

मोदी ने कहा, ''ये फ़ैसला मैंने सिर्फ़ और सिर्फ़ ग़रीबों के लिए लिया है. 70 साल से जो लूटा गया है, उसे बाहर निकालना है और ग़रीब का घर बनाना है.''

ये भी पढ़ें मोदी के आँसुओं ने आलोचना को धो डाला

ये भी पढ़ें रोने की राजनीति और राजनीति का रोना

प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में परिवर्तन रैली को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा, ''जो कुछ भी निकलेगा, वो ग़रीबों की भलाई के काम आएगा. देश अच्छी दिशा में जाने को तैयार बैठा है. आने वाले दिनों में देश इस बात को स्वीकार करेगा कि फ़ैसला कठोर था, लेकिन भविष्य उज्ज्वल है.''

प्रधानमंत्री मोदी बोले- ''बीमारी दूर करने के लिए जब कड़वी दवा दी जाती है, तो थोड़ी तकलीफ़ होती है. मैं देशवासियों का आभार जताता हूं. मैंने देश से 50 दिन मांगे हैं. पहले दिन की कह दिया था कि तकलीफ़ होगी. जो बड़े-बड़े लोग हैं, उन्हें बड़ी तकलीफ़ होगी, जो छोटे-छोटे हैं, उन्हें छोटी-छोटी तकलीफ़ तो होगी. ''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा, ''मैं जनता को नमन् करता हूं. लोकतंत्र की ताक़त देखिए. कल चीन के अख़बारों ने लिखा कि लोकतंत्र में कोई ऐसा फ़ैसला करने की हिम्मत नहीं कर सकता. उन्हें मालूम नहीं है कि भारत की जनता की रग-रग में ऐसा लोकतंत्र बसता कि वो दूसरों की भलाई पहले सोचती है. और इसी वजह से इतना कठोर फ़ैसला करने का साहस मिलता है.''

ये भी पढ़ें आपकी आंखों में क्यों आंसू आते हैं?

ये भी पढ़ें नेताओं के आंसू...दर्द या इमोशनल अत्याचार

ये भी पढ़ें 'मोदी जी तय कर लें, हंसना है या रोना है'

मोदी ने कहा, ''टेक्नोलॉजी इतनी सरल है कि जितनी आसानी से आप मोबाइल से फ़ोटो और वॉट्सऐप भेज सकते हो, रीचार्ज करा सकते हो. उतनी ही आसानी से आप मोबाइल से कुछ भी ख़रीद सकते हो. आज मोबाइल फ़ोन आपके बैंक की ब्रांच बन गया है.''

प्रधानमंत्री पर पलटवार करते हुए कांग्रेस ने कहा कि भारत को दुनिया भर में भ्रष्ट देश के रूप में प्रस्तुत करना सही नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा, ''दशकों की मेहनत के बाद भारत इस मुक़ाम पर पहुंचा था और प्रधानमंत्री ने अपने अहंकार की वजह से देश का अपमान किया है.''

उन्होंने कहा, ''भारत जैसे गरीब देश में जहां बैंकिंग की सुविधा कई लोगों के पास नहीं है, उन्हें क्रेडिट और डेबिट कार्ड, मोबाइल बैंकिंग इस्तेमाल करने की ताक़ीद देना सही नहीं है. पूरी दुनिया में कैशलेस इकोनॉमी कहीं नहीं है. सरकार के इस फ़ैसले ने पूरी बैंकिंग व्यवस्था को चौपट कर दिया है.''

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कहा कि ये आरोप सही नहीं हैं कि विरोधी दल काले धन पर रोक के ख़िलाफ़ हैं.

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ''विरोधी बिना तैयारी के लिए गए नोटबंदी के फ़ैसले की वजह से देश की 90 फ़ीसद आबादी को हो रही दिक्कतों का विरोध कर रहे हैं, ना कि अपने हितों की वजह से.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे