नजरिया : नोटबंदी के बैकफ़ायर करने की पूरी संभावना है

  • 29 नवंबर 2016
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नोटबंदी पर कई राज्यों में विपक्ष के प्रदर्शन

नोटबंदी का फ़ैसला दरअसल एक बहुत बड़ा जुआ है और इसके "बैकफ़ायर" करने की पूरी संभावना है.

लोगों को जिस तरह की दिक्कतें हो रही हैं, उनसे साफ है कि जो राजनेता इस तरह के फ़ैसला लेता है, उसमें जोखिम उठाने की बहुत अधिक क्षमता है. भविष्य में इसका क्या राजनीतिक असर होगा, यह अभी किसी को नहीं मालूम.

इमेज कॉपीरइट AFP

यदि विपक्ष का भारत बंद कामयाब होता और कोई जन आक्रोश वाकई होता तो उसका एक मतलब भी था. लेकिन ऐसा लगता है कि विपक्ष जान बूझ कर जन आक्रोश का एक माहौल बनाना चाहता है, जिसका कोई राजनीतिक मतलब नहीं है न ही उसका कोई सियासी फ़ायदा है.

ये नोटबंदी नहीं देश बदली है: जयंत सिन्हा

चीनी मीडिया के नोटबंदी को 'बोल्ड' बताने का मतलब जानिए

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नोटबंदी पर मोदी सरकार के ऐलान लोगों के ज़ेहन में कुछ सवाल छोड़ रहे हैं.

ऐसा लगता है कि विपक्ष सही तरीके से जन आक्रोश भी नहीं दिखा पाया और एक बात जो वह लगातार कह रहा है, उसका कोई असर भी नहीं है.

ऐसा नहीं दिख रहा है कि विपक्ष कोई ऐसी बात सामने रख रहा है, जिसका आम जनता पर कोई असर हो. विपक्ष एक अजीब रूप में दिख रहा है, जिसमें हठधर्मिता है.

इसमें कोई शक नहीं कि आम जनता को नोटबंदी से दिक्क़ते हुई हैं, लेकिन विपक्ष उन दिक्कतों को सही ढंग से उठा नहीं पया, न ही लोगों को लगा कि विपक्ष के ज़रिए इस मुद्दे को कारगर तरीके से उठाया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत में अब तक किसी सरकार का कोई क़दम इतना दूरगामी और व्यापक प्रभाव छोड़ने वाला नहीं हुआ है, जितना नोटबंदी. इसका असर भिखारी से लेकर सबसे धनी आदमी तक हुआ है, भारत में मुझे ऐसा कोई फैसला याद नहीं आता जिसका असर इतना व्यापक हुआ हो.

कार्टून: नोटबंदी में विपक्ष के छुट्टे!

नोटबंदी: क्या मोदी के करीब जाना चाहते हैं नीतीश

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
केंद्र सरकार के बड़े नोट बंद करने के ऐलान के बाद इससे जुड़े भोजपुरी गीत धूम मचा रहे हैं.

सत्ताधारी पार्टी ने इस फ़ैसले के राजनीतिक लाभ के बारे में तो सोचा ही होगा, पर क्या उसका कोई आर्थिक या वित्तीय चिंतन भी इसके पीछे था, अहम यह है.

मोदी शायद भारत की आंतरिक ताक़त भी इस फ़ैसले के ज़रिए दिखाना चाहते थे.

उन्होंने मुझे एक बार एक इंटरव्यू में कहा था कि कुंभ में पूरे ऑस्ट्रेलिया की आबादी जितने लोग आते हैं और फिर चुपचाप अपने अपने घर भी लौट जाते हैं और यह राज्य के हस्तक्षेप के बग़ैर ही होता है.

उन्हें शायद लगा कि इस फ़ैसले का आने वाले समय में भारत के लिए अच्छा होगा और देश को आर्थिक फ़ायदा होगा.

(बीबीसी संवाददाता रेहान फ़ज़ल से हुई बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए