सेना तैनाती के विरोध में धरने पर बैठीं ममता हटीं

  • 2 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट AFP

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सचिवालय से हट गई हैं. टोल नाकों और राज्य के कई ज़िलों में सेना की तैनाती के विरोध में वो सचिवालय में धरने पर बैठी हुई थीं.

ये भी पढ़ें: 'ममता बनना चाहती थीं केजरीवाल, बन गई राहुल'

वहीं सेना ने कहा है कि वो पहले से तयशुदा कार्यक्रम के मुताबिक़ मध्यरात्रि तक अपना ऑपरेशन जारी रखेगी.

बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टसाली के मुताबिक़ सचिवालय छोड़ने से पहले ममता ने कहा कि सेना ग़लतबयानी कर रही है और राज्य में सेना की तैनाती उनके ख़िलाफ़ राजनीतिक बदले की कार्रवाई है.

ममता ने कहा कि चूंकि नोटबंदी पर वो आम आदमी के साथ खड़ी हुईं इस वजह से केंद्र सरकार उनके ख़िलाफ़ है.

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में राज्य सचिवालय के पास और कई और जगहों पर सेना की तैनाती पर ममता बनर्जी ख़फ़ा हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

उनका आरोप है कि राज्य सरकार को बताए बिना सेना तैनात कर दी गई है.

ममता ने कहा था कि जब तक राज्य से सभी जगहों पर सेना नहीं हटाई जाती वो सचिवालय में ही रहेंगी.

ममता के आरोप पर भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के कहा था कि पश्चिम बंगाल में टोल नाकों पर सेना की तैनाती पर राज्य की तृणमूल कांग्रेस सरकार विवाद खड़ा कर रही है, जो ग़लत है.

वहीं सेना के पूर्वी कमान ने भी ट्वीट कर कहा कि ये "कार्रवाई एक रूटीन गतिविधि है और पश्चिम बंगाल की पुलिस की जानकारी में इसे किया जा रहा है".

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए