इंफ़ाल में हिंसा के बाद कर्फ्यू, इंटरनेट बंद

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शुक्रवार को इंफ़ाल पश्चिम ज़िले में एक घंटे के अंदर तीन धमाके हुए थे.

मणिपुर की राजधानी इंफ़ाल में हिंसा और तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए रविवार को कई इलाकों में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने ख़बर दी है कि एक चर्च पर कथित हमले से जुड़ी अफ़वाहों को रोकने के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवा भी कई जगहों पर बंद की गई है.

इंफाल वेस्ट ज़िले के पुलिस अधीक्षक एन हेरोजित मेतेई ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि रविवार को पुलिस बल की 22 गाड़ियों को आग लगा दी गई लेकिन कोई इसमें घायल नहीं हुआ है.

ज़िलाधिकारी के निर्देश के मुताबिक रविवार दोपहर को इंफ़ाल के कुछ इलाकों में अगले आदेश तक कर्फ्यू लगा दिया गया है.

मणिपुर: आँसुओं को पोंछने वाले का इंतज़ार

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हिंसा को रोकने के लिए संवेदनशील इलाकों में पुलिस तैनाती बढ़ा दी गई है.

रविवार को जब हिंसा हुई तो प्रदर्शनकारी आर्थिक नाकेबंदी और अन्य हिंसक घटनाओं का विरोध कर रहे थे.

एक नवंबर से मणिपुर के दो राष्ट्रीय राजमार्गों पर यूनाइटेड नागा काउन्सिल की ओर से अनिश्चितकालीन आर्थिक नाकेबंदी चल रही है. उसके बाद से मणिपुर में रोज़मर्रा की ज़रूरी चीज़ों की आपूर्ति प्रभावित हुई है.

मणिपुरः फ़ौजी काफ़िले पर हमला, 10 की मौत

मणिपुर में राज्य सरकार ने सात नए ज़िलों की घोषणा की थी जिसके विरोध में आर्थिक नाकेबंदी का आह्वान किया गया था.

हिंसक घटनाएं

पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार को इंफ़ाल पश्चिम ज़िले में एक घंटे के अंदर तीन धमाके हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मोबाइल इंटरनेट सेवा भी कई जगहों पर बंद की गई है. (फाइल फोटो)

पिछले दिनों मणिपुर में अलग अलग जगहों पर हमलों में तीन पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी और 14 अन्य लोग घायल हुए थे.

चरमपंथियों ने भारतीय रिज़र्व बटालियन के सदस्यों के हथियार भी छीन लिए थे.

अधिकारियों का कहना है कि कानून व्यवस्था की स्थिति का जायज़ा लेने के बाद और सोशल नेटवर्किंग साइटों पर अफ़वाहें फैलने से रोकने के लिए कैबिनेट में फ़ैसला लिया गया.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि हिंसा को रोकने के लिए संवेदनशील इलाकों में पुलिस तैनाती बढ़ा दी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे