जोकर की ज़िंदगी: कहीं ख़ुशी कहीं ग़म

  • केट बोलोंगारो
  • बिज़नेस रिपोर्टर, हांगकांग
जोकर

जहां एक ओर अमरीका और यूरोप में जोकर काम पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं वहीं भारत और हांगकांग जैसी जगहों पर जोकरों की भारी मांग है और वे सालों भर व्यस्त रहते हैं.

इसकी वजह यह है कि यूरोप-अमरीका में मां-बाप आजकल बच्चों के डरने की वजह से जोकरों से परहेज कर रहे हैं.

यूरोप-अमरीका में जोकरों को अपनी ज़िंदगी चलाने के लिए और भी काम करने पड़ते हैं लेकिन एशियाई देशों में ऐसा नहीं है.

मुंबई में रहने वाले मार्टिन डिसूज़ा एक जोकर हैं. मार्टिन ने फिजिक्स और मैनेजमेंट में दो-दो यूनिवर्सिटी डिग्रियां लेने के बावजूद जोकर बनने का फ़ैसला लिया.

वो लोगों को हंसाने के अपने इस पेशे से अच्छा-खासा पैसा कमाते हैं. इसके अलावा वो जोकरों की एक एजेंसी भी चलाते हैं जिसमें 80 जोकर अपनी सेवाएं देते हैं.

ये सभी यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्र हैं.

अपने परिवार की ओर से होने वाले आपत्ति के बावजूद 47 साल के मार्टिन ने जोकर बनने का फ़ैसला लिया था.

वो कहते हैं कि जब वो अपने जोकर के किरदार में आते हैं तो अपने आप को 'सशक्त' महसूस करते हैं.

इमेज कैप्शन,

जोकरों के लिए बड़े साइज़ के जूतों का बड़ा महत्व है.

मार्टिन का कहना है कि बहुत सारे भारतीय नौजवान जोकर बनने के पेशे को अपनाना चाहते हैं क्योंकि आज के नौजवान पढ़ाई-लिखाई और नौकरी से अलग हट कर कुछ करना चाहते हैं.

वो कहते है, "वे नौ से पांच बजे की नौकरियों से आजीज आ चुके हैं और धीरे-धीरे अब जोकर का काम को भी सम्मान मिलने लगा है."

मार्टिन भारतीय फिल्मों को भी शुक्रिया अदा करते हैं.

वो कहते हैं, "भारत की नौजवान पीढ़ी डांसिंग और स्टेज परफॉर्मेंस में खूब दिलचस्पी ले रही है. इसके लिए बॉलीवुड का शुक्रिया. मैं वाकई में यह बात मानता हूं कि यहां लोगों में स्टेज पर जाने और अपनी पहचान बनाने को लेकर गजब का जज्बा है. हर कोई अपनी ख़ुद की शख़्सियत बनाना चाहता है."

आगे वो कहते हैं, "आज की तारीख में मां-बाप यह कहते हुए नहीं शर्माते हैं कि उनका बेटा या बेटी एक जोकर का काम करता है."

एशियाई देशों और यूरोप-अमरीका के बीच एक बड़ा फर्क़ जोकर बनने वाले लोगों के उम्र का भी है.

मार्टिन डिसूज़ा का कहना है, "आप पश्चिम के देशों में कम उम्र के जोकर नहीं देखेंगे."

एशिया में जोकरों की औसत उम्र 25 से 30 के बीच होती है जबकि पश्चिमी देशों में यह पचास से ऊपर होती है.

इमेज कैप्शन,

मार्टिन डिसूज़ा

हांगकांग के 35 साल के जोकर केन केन 15 सालों से इस काम में लगे हुए हैं और वो सालों भर बुक रहते हैं.

वहीं एरिज़ोना की 52 साल की जूली वर्होल्ड्ट कहती हैं कि एक अमरीकी जोकर आम तौर पर एक साल में करीब साढ़े नौ लाख रुपये कमाता है जो कि केन केन की कमाई से पांच गुणा कम है.

वो कहती हैं, "मैं बिना कोई और काम किए भी ख़ुद के लिए पर्याप्त पैसे कमा सकती हूं लेकिन यह इतना आसान नहीं है. एक फुल टाइम इंटरटेनर बनने के लिए बहुत काम करना पड़ता है. आपको हमेशा ख़ुद की मार्केटिंग करते रहनी पड़ती है."

पश्चिम में जोकर के पेशे को लोकप्रिय बनाने की जरूरत है जो जोकरों की मांग और उनकी कमाई में इजाफा करें.

इमेज कैप्शन,

जूली वर्होल्ड्ट

हो सकता है कि यह इतना आसान ना हो. हालांकि विसकोंसिन में क्लाउन कैंप के सह-मालिक केनी हर्न का कहना है कि वो इसे लेकर चिंतित नहीं है.

वो कहते हैं, "मुझे उम्मीद है कि हंसने-हंसाने का यह काम बंद नहीं होने जा रहा है. यह यूं ही चलता रहेगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)