जोकर की ज़िंदगी: कहीं ख़ुशी कहीं ग़म

  • 26 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट Kait Bolongaro

जहां एक ओर अमरीका और यूरोप में जोकर काम पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं वहीं भारत और हांगकांग जैसी जगहों पर जोकरों की भारी मांग है और वे सालों भर व्यस्त रहते हैं.

इसकी वजह यह है कि यूरोप-अमरीका में मां-बाप आजकल बच्चों के डरने की वजह से जोकरों से परहेज कर रहे हैं.

मेरा नाम जोकर...

कहता है जोकर सारा जमाना

यूरोप-अमरीका में जोकरों को अपनी ज़िंदगी चलाने के लिए और भी काम करने पड़ते हैं लेकिन एशियाई देशों में ऐसा नहीं है.

मुंबई में रहने वाले मार्टिन डिसूज़ा एक जोकर हैं. मार्टिन ने फिजिक्स और मैनेजमेंट में दो-दो यूनिवर्सिटी डिग्रियां लेने के बावजूद जोकर बनने का फ़ैसला लिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वो लोगों को हंसाने के अपने इस पेशे से अच्छा-खासा पैसा कमाते हैं. इसके अलावा वो जोकरों की एक एजेंसी भी चलाते हैं जिसमें 80 जोकर अपनी सेवाएं देते हैं.

ये सभी यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्र हैं.

'जोकर के किरदार से प्रेरित नहीं है राख़'

'उन्हें बताना है, भारतीय कलाकार जोकर नहीं'

अपने परिवार की ओर से होने वाले आपत्ति के बावजूद 47 साल के मार्टिन ने जोकर बनने का फ़ैसला लिया था.

वो कहते हैं कि जब वो अपने जोकर के किरदार में आते हैं तो अपने आप को 'सशक्त' महसूस करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Kait Bolongaro
Image caption जोकरों के लिए बड़े साइज़ के जूतों का बड़ा महत्व है.

मार्टिन का कहना है कि बहुत सारे भारतीय नौजवान जोकर बनने के पेशे को अपनाना चाहते हैं क्योंकि आज के नौजवान पढ़ाई-लिखाई और नौकरी से अलग हट कर कुछ करना चाहते हैं.

जोकर सम्मेलन: अजब-ग़ज़ब में

'लीला कर, जोकर बनकर चला गया'

वो कहते है, "वे नौ से पांच बजे की नौकरियों से आजीज आ चुके हैं और धीरे-धीरे अब जोकर का काम को भी सम्मान मिलने लगा है."

मार्टिन भारतीय फिल्मों को भी शुक्रिया अदा करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Kait Bolongaro

वो कहते हैं, "भारत की नौजवान पीढ़ी डांसिंग और स्टेज परफॉर्मेंस में खूब दिलचस्पी ले रही है. इसके लिए बॉलीवुड का शुक्रिया. मैं वाकई में यह बात मानता हूं कि यहां लोगों में स्टेज पर जाने और अपनी पहचान बनाने को लेकर गजब का जज्बा है. हर कोई अपनी ख़ुद की शख़्सियत बनाना चाहता है."

आगे वो कहते हैं, "आज की तारीख में मां-बाप यह कहते हुए नहीं शर्माते हैं कि उनका बेटा या बेटी एक जोकर का काम करता है."

एशियाई देशों और यूरोप-अमरीका के बीच एक बड़ा फर्क़ जोकर बनने वाले लोगों के उम्र का भी है.

मार्टिन डिसूज़ा का कहना है, "आप पश्चिम के देशों में कम उम्र के जोकर नहीं देखेंगे."

एशिया में जोकरों की औसत उम्र 25 से 30 के बीच होती है जबकि पश्चिमी देशों में यह पचास से ऊपर होती है.

इमेज कॉपीरइट Martin D'Souza
Image caption मार्टिन डिसूज़ा

हांगकांग के 35 साल के जोकर केन केन 15 सालों से इस काम में लगे हुए हैं और वो सालों भर बुक रहते हैं.

वहीं एरिज़ोना की 52 साल की जूली वर्होल्ड्ट कहती हैं कि एक अमरीकी जोकर आम तौर पर एक साल में करीब साढ़े नौ लाख रुपये कमाता है जो कि केन केन की कमाई से पांच गुणा कम है.

वो कहती हैं, "मैं बिना कोई और काम किए भी ख़ुद के लिए पर्याप्त पैसे कमा सकती हूं लेकिन यह इतना आसान नहीं है. एक फुल टाइम इंटरटेनर बनने के लिए बहुत काम करना पड़ता है. आपको हमेशा ख़ुद की मार्केटिंग करते रहनी पड़ती है."

पश्चिम में जोकर के पेशे को लोकप्रिय बनाने की जरूरत है जो जोकरों की मांग और उनकी कमाई में इजाफा करें.

इमेज कॉपीरइट Julie Varholdt
Image caption जूली वर्होल्ड्ट

हो सकता है कि यह इतना आसान ना हो. हालांकि विसकोंसिन में क्लाउन कैंप के सह-मालिक केनी हर्न का कहना है कि वो इसे लेकर चिंतित नहीं है.

वो कहते हैं, "मुझे उम्मीद है कि हंसने-हंसाने का यह काम बंद नहीं होने जा रहा है. यह यूं ही चलता रहेगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए