जब अकाउंट में आ गए करीब सौ करोड़ रूपए

  • 27 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट EPA

मेरठ की रहने वाली शीतल यादव और उनके पति जिलेदार सिंह यादव उस समय चौंक गए जब उन्होंने अपने जनधन अकाउंट में करीब 100 करोड़ रुपए का बैलेंस देखा.

एक निजी कंपनी में काम करने वाले जिलेदार यादव कहते हैं कि उन्होंने ऐसी अफ़वाहें सुनी थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनधन अकाउंट में पैसा जमा करा रहे हैं.

नोटबंदी के 46वें दिन मोदी ने कहा- 30 दिसंबर के बाद सब ठीक होगा

नोटबंदी की हदों से बाहर राजनीतिक चंदे

ये अफ़वाह सुन कर उनकी पत्नी और वे बैंक बैलेंस चैक करने के लिए पहले एक्सिस बैंक के एटीएम में गए. ये अकाउंट उनकी पत्नी के नाम था. जब उन्होंने स्लिप निकाली तो वो भौंचक्के रह गए और अपनी आंखों पर भरोसा नहीं कर पाए.

इमेज कॉपीरइट AFP

जिलेदार सिंह यादव का कहना था, ''हम जानते हैं कि ये अफ़वाह थी कि मोदीजी सबके जनधन अकाउंट में पैसा जमा करा रहे हैं लेकिन मेरी पत्नी ने कहा कि हमें अपना बैलेंस चैक कर लेना चाहिए. वो इतवार का दिन था. हमने एक्सिस बैंक के एटीएम में चैक किया, हम हैरान हो गए फिर हम दो तीन एटीएम में गए लेकिन नतीजा वही था 99,99,99,339 रुपए.''

जिलेदार सिंह यादव ने कहा कि मैंने इस बारे में अर्ज़ी लिखकर बैंक वालों को सूचित करने की कोशिश की थी, लेकिन कर्मचारियों ने अर्ज़ी स्वाकीर नहीं की.

इमेज कॉपीरइट EPA

उन्होंने अर्ज़ी के बारे में बताया , ''मैंने अर्ज़ी में लिखा कि मेरे अकाउंट में इतना बैलेंस है और उसे ठीक करने की अपील की, लेकिन बैंकवालों ने जवाब दिया कि मैनेजर आएंगे तभी करेंगे. मैनेजर का ट्रांसफर हो गया था. किसी ने सुनवाई नहीं की और मैं वापस आ गया .''

नोटबंदी: मालिक, मज़दूर दोनों की रोती सूरत

जिलेदार सिंह यादव के मुताबिक उनके बैंक में केवल 611 रुपए थे.

वे बताते हैं, '' मैंने 19 तारीख को ही पीएमओ ऑफिस और आईटी विभाग को इस बैंक बैलेंस के बारे में मेल किया था जिसमें बैंक की पूरी जानकारी भी दी थी.''

इमेज कॉपीरइट AP

जिलेदार सिंह यादव कहते हैं, ''बैंक के तीन अधिकारी सोमवार को मेरे दफ़्तर आए थे. उन्होंने कहा कि केवाईसी नहीं था इसलिए गलती हो गई. साथ ही बैंक वाले ये भी कह रहे थे कि उनकी पत्नी का अकाउंट होल्ड कर दिया गया था. मेरे पास इसकी पूरी जानकारी नहीं है लेकिन वो अपना बचाव कर रहे थे और मैंने मीडिया में जानकारी देकर अपना बचाव किया है.''

शीतल यादव कहती हैं कि मुझे मेल में क्या लिखा गया इस बारे में पूरी जानकारी नहीं है. वे हंसते हुए कहती है कि परेशानी हुई, इतना शोरशराबा हुआ और हमें कुछ इनाम भी नहीं मिला.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे