ब्लॉग: 'मैं अपने बेटे का नाम तैमूर कभी नहीं रखूँगा'

  • 27 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट AP

करीना कपूर और सैफ़ अली ख़ान के बेटे के नाम पर पिछले हफ्ते हुई चर्चा में मैं देर से शामिल हो रहा हूँ लेकिन शामिल होना शायद दुरुस्त है. देरी की वजह साहस का न जुटा पाना था क्योंकि मेरी पत्नी उस देश (उज़्बेकिस्तान) से हैं जहाँ तैमूर एक हीरो हैं.

पढ़ें: इतिहास रंगा है तैमूर के ज़ुल्म की कहानियों से

पढ़ें- तैमूर नाम पर सोशल मीडिया हुआ गरम

तस्वीरें- करीना का जलवा

साहस जुटाने में ये हकीकत शामिल है कि मेरी पत्नी हिंदी पढ़ नहीं सकतीं, तो मैंने सोचा अपनी बात कह ही डालूं.

सैफ और करीना की तरह अगर हमारा भी एक बेटा हो और सुझाव तैमूर नाम रखने का हो, तो घर में महाभारत होने की पूरी सम्भावना है.

मेरी पत्नी के लिए तैमूर नाम के साथ श्रद्धा और गर्व जुड़ा है. उनके लिए तैमूर ''अमीर तैमूर'' हैं, लेकिन मेरे लिए वो ''तैमूर लंग'' (लंगड़ा) है, जिसे मैं भारत पर आक्रमण करने वाला हमलावर मानता हूँ

इमेज कॉपीरइट Thinkstock
Image caption समरकंद स्थित तैमूरलंग का मक़बरा

उज़्बेकिस्तान में उसे हीरो नंबर वन माना जाता है. इसीलिए अदब से उसे अमीर तैमूर कहा जाता है. समरक़न्द में मैंने उसकी खूबसूरत मज़ार पर देखी है.

उससे बड़ी शख्सियत वहां कोई नहीं है. अपनी पत्नी से जब मैंने दिल्ली में उसके क़त्ल-ऐ-आम की बात बताई, उसने कहा उसके देश की इतिहास की पुस्तकों में उसके बारे में केवल अच्छी बातें लिखी गई हैं.

एक देश का हीरो दूसरे देश का विलेन. उज़्बेकिस्तान में तैमूर नाम आम है. लेकिन भारत में नहीं.

निजी तौर पर मेरे लिए भी तैमूर एक विलेन है. मैं मुसलमान होकर भी अपनी औलाद का नाम तैमूर कभी नहीं रखूँगा. तैमूर दिल्ली के निवासियों का क़ातिल था जिनमें हिन्दू और मुस्लिम दोनों शामिल थे.

सैफ-करीना के बेटे के नामकरण को उनका निजी फैसला मानने वालों से मैं ये पूछना चाहता हूँ कि क्या आप अपने बेटे का नाम हिटलर रखेंगे?

यहूदियों को तो छोड़िए, मैं भी अपने बेटे का नाम हिटलर कभी नहीं रखूँगा क्योंकि उस पर 60 लाख यहूदियों की हत्या का इलज़ाम है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दुर्भाग्य से पिछले दस सालों में हिटलर के नाम से मुंबई में दो रेस्तरां खुले थे. तब मैं बीबीसी के लिए मुम्बई में काम करता था.

मुझे याद है कि उस समय कितना हंगामा हुआ था. दोनों रेस्तरां बंद करने पड़े थे. बाद उनके नाम बदले गए और वो दूसरे नामों से खोले गए.

कुछ लोग ये तर्क देते हैं कि तैमूर की तरह सम्राट अशोक ने भी क़त्ल-ऐ-आम किया था. इसलिए अशोक नाम रखना भी उचित नहीं है.

लेकिन अशोक ने बाद में प्रायश्चित भी तो किया था. तैमूर ने ऐसा कुछ नहीं किया. बल्कि तैमूर ने एक ऐसी विरासत छोड़ी जिसे बाबर ने अधूरा समझ कर उसे पूरा करने के लिए भारत पर आक्रमण किया.

अपने आप में तैमूर एक सुंदर नाम है जिसका मतलब लोहा या फौलाद है. लेकिन अफ़सोस कि ये सुंदर नाम एक ऐसे शख्स से जुड़ा है जिसको भारत में विलेन का दर्जा हासिल है.

सैफ और करीना को अपने बेटे को कोई भी नाम देने का हक़ है, लेकिन ज़रा सोचिए जब उनका बेटा हाई स्कूल और कॉलेज जाने लगेगा तो विद्यार्थी उसके नाम को लेकर उसके साथ कैसा बर्ताव करेंगे..

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे