झारखंड खदान हादसा: सात लाशें निकाली गईं, 60 से ज़्यादा फंसे

  • 30 दिसंबर 2016
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
झारखंड के गोड्डा में खदान धंसी, खदान में फंसे लोगों को निकालने का काम जारी.

झारखंड में गोड्डा जिले के ईसीएल के भोड़ाय ओपन माइंस में हुए हादसे में अब तक 10 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है. इसमें अभी और शवों के मिलने की आशंका है.

स्थानीय पत्रकार नीरभ लाल ने बीबीसी को बताया कि खदान के अंदर 60 से ज़्यादा लोग फंसे हैं. इनमें से अधिकतर बिहार और उत्तर प्रदेश से यहां काम करने आए मजदूर और ड्राइवर हैं.

इमेज कॉपीरइट Praveen Tiwari

मृतकों में एक झारखंड, एक उत्तर प्रदेश और बाकी बिहार के हैं. हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को 12 लाख का मुआवजा देने की घोषणा की गई है. इसमें पांच लाख ईसीएल और पांच लाख प्राइवेट कंपनी और दो लाख राज्य सरकार की तरफ से मुआवजे की रकम मुहैया कराई जाएगी.

हादसे के 12 घंटे बाद आज सुबह 9 बजे एनडीआरएफ की टीम यहां पहुंची.

इमेज कॉपीरइट Praveen Tiwari

अभी राहत और बचाव का काम शुरू करने की कोशिशें की जा रही हैं. राज्य की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा को मौके पर भेजा गया है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर इस हादसे पर दुख व्यक्त किया है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

खदान के अंदर स्वाभाविक तौर पर ऑक्सिजन की कमी है. ऐसे में किसी भी प्रभावित का बच पाना चमत्कार ही होगा.

ग्रामीणों ने बताया कि घटनास्थल के पास पर आक्रोशित लोगों का हुजूम है. सीआईएसएफ के जवान उन्हें घटनास्थल तक जाने से रोक रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

महागामा के विधायक अशोक भगत ने बीबीसी को बताया कि भोड़ाय ओपन माइंस में कोयले का वर्टिकल पहाड़ बन चुका था.

अशोक भगत का दावा है कि उन्होंने इसके लिए बहुत पहले जिम्मेवार अधिकारियों को मेल किया था, लेकिन इसके बावजूद ईसीएल प्रबंधन ने उनके पत्र पर ध्यान नहीं दिया.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

बीती रात 8 बजे ईसीएल की राजमहल परियोजना के लालमटिया में लैंडस्लाइड के कारण दो दर्जन से अधिक गाड़ियां और कई लोग मिट्टी में दब गए थे. रात के अंधेरे और घने कोहरे के कारण वहां राहत का काम शुरू करने में 12 घंटे लग गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे