किसानों, बुजुर्गों के लिए मोदी की सौगात

  • 31 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नव वर्ष की पूर्व संध्या पर देश को संबोधन में किसानों, बुज़ुर्गों, गर्भवती महिलाओं, ग़रीबों, लघु और मझौले उद्योगों के लिए कई तरह की छूटों का ऐलान किया.

किसानों को क्या मिला:

  • रबी और खरीब बुवाई के लिए ज़िला कोऑपरेटिव सेंट्रल बैंक से जिन किसानों ने कर्ज़ लिया है, उनके 60 दिन का ब्याज सरकार देगी.
  • अगले तीन महीने में तीन करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड को रुपे कार्ड में बदला जाएगा.
  • अब किसान अपने कार्ड से कहीं पर भी ख़रीद-बिक्री कर पाएंगे.
इमेज कॉपीरइट Thinkstock
  • नेशनल बैंक फ़ॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) ज़िला सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंकों को पहले से दी गई रक़म के अलावा 20,000 करोड़ रुपए अधिक देगा. सरकार उसे यह पैसा देगी.

लघु और मझोले उद्योगों को राहत:

  • छोटे कारोबारियों के लिए क्रेडिट गारंटी एक करोड़ से बढ़ाकर दो करोड़ रुपया होगा
  • छोटे उद्योगों के लिए कैश क्रेडिट लिमिट को 20 से बढ़ाकर 25 प्रतिशत होगा
  • जो कारोबारी साल में दो करोड़ का व्यापार करते हैं उनकी टैक्स गणना आठ प्रतिशत आय मानकर की जाती थी अब इसे 6 प्रतिशत की जाएगी
इमेज कॉपीरइट Reuters
  • डिजिटल लेनदेन करने वाली कंपनियों का वर्किंग कैपिटल 20 फ़ीसद से बढ़ा कर 30 प्रतिशत कर दिया जाएगा.
  • सरकार मुद्रा योजना की रकम अब दोगुना करेगी.
इमेज कॉपीरइट KHUSBOO DUA

गर्भवती महिलाओं को सरकार की मदद:

  • अब देश के सभी 650 से ज़्यादा जिलों में सरकार गर्भवती महिलाओं को अस्पताल में 6 हजार की आर्थिक मदद करेगी. यह राशि सीधे उनके खाते में जाएगी.
  • 7,50,000 रुपए की तक की जमा रक़म पर वरिष्ठ नागरकों को 8 प्रतिशत ब्याज दर सुनिश्चित किया जाएगा. बैंक इस मामले में ब्याज़ दर में कटौती नहीं कर सकेंगे.

आवास कर्ज़ में राहत:

  • प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग़रीबों को घर देने के लिए दो नई स्कीमें की घोषणा
  • 9 लाख रुपये के कर्ज पर ब्याज में चार प्रतिशत की छूट और 12 लाख के कर्ज में तीन प्रतिशत की छूट मिलेगी.
  • प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पहले जितने घर बनते थे उससे अब 33 प्रतिशत ज्यादा घर बनाए जाएंगे
  • 2017 में गांव में रहने वाले लोग जो अपना घर बनाना चाहते हैं उन्हें दो लाख तक के कर्ज में तीन प्रतिशत ब्याज में छूट दी जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे