अब रेस्तरां में सर्विस चार्ज देना आपकी मर्ज़ी पर

  • 2 जनवरी 2017
थाली इमेज कॉपीरइट Getty Images

केंद्र सरकार ने कहा है कि रेस्तरां में सर्विस चार्ज यानी सेवा शुल्क देना ज़रूरी नहीं है. यह ग्राहक की इच्छा पर निर्भर है और वह चाहे तो इसका भुगतान करने से इनकार कर सकता है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, उपभोक्ता मामलों के विभाग ने सोमावर को इस संबंध में अधिसूचना जारी की है.

अधिसूचना में कहा गया है, "राज्य सरकारें होटलों और रेस्तरां को यह सलाह दें कि वे अपने यहां उचित जगह पर इसकी जानकारी दें कि सेवा शुल्क देना अनिवार्य नहीं, ऐच्छिक है. यह ग्राहकों की इच्छा पर निर्भर है और वे यदि संतुष्ट न हों तो इसका भुगतान करने से मना कर सकते हैं."

रेस्तरां में खाना परोसने वाला रोबोट!

अजब गजब थीम पर रेस्तरां...

अकेली लड़की और दिल्ली के रेस्तरां!

सरकार ने यह क़दम कुछ उपभोक्ताओं की शिकायत पर उठाया, जिन्होंने कहा था कि सेवा शुल्क के नाम पर रेस्तरां ग्राहकों से 5 प्रतिशत से 20 प्रतिशत तक वसूलते हैं.

होटल एसोसिएशन्स ऑफ़ इंडिया ने इस पर उपभोक्ता मामलों के विभाग से स्थिति साफ़ करने को कहा. विभाग ने इसके जवाब में कहा है कि यह शुल्क उपभोक्ताओं की इच्छा पर निर्भर है. वे यदि संतुष्ट नहीं हैं तो यह चार्ज न चुकाएं. वह चाहे तो अपनी मर्जी से इसका भुगतान कर सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे