वो जो पैरों से लिखते हैं और हार नहीं मानते

  • 5 जनवरी 2017
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पुणे के साहिल घर की छत से गुज़रती एक बिजली की तार की चपेट में आए और दोनों हाथ गँवा बैठे.

"अगर मैं दोनों हाथ न होते हुए भी इतना सबकुछ कर सकता हूं तो वो लोग जिनके पास सबकुछ है, वो क्या नहीं कर सकते." थोड़ी फूलती साँस के साथ साहिल अपनी बात रखते हैं.

साल 2010 में पुणे के रहने वाले साहिल अपने घर की छत से गुज़रती एक बिजली की तार की चपेट में आए और अपने दोनों हाथ गँवा बैठे.

70 फीसदी तक जल चुके साहिल दो दिन कोमा में रहे और घर वालों ने उन्हें मृत मान लिया था लेकिन नियति की चोट 20 वर्षीय साहिल शेख़ को आगे बढ़ने से नहीं रोक पाई.

कौन देता है कृत्रिम अंगों का सहारा?

नकली पैर, असली अहसास

ज़िंदगियां बदलने वाला 'बायोनिक मैन'

साहिल ने 2010 के बाद अपनी पूरी शिक्षा 'होम स्कूल' के माध्यम से की और अपने पेपर लिखने के लिए उन्होंने अपने पैरों का इस्तेमाल किया, साहिल ने बताया, "हादसे के बाद कई महीनों तक मैं कुछ भी करता नहीं था लेकिन फिर मेरे एक जानकार शिक्षक ने घर से पढ़ने की सलाह दी."

वो बताते हैं, "मैंने ओपन स्कूल के माध्यम से दसवीं कक्षा की पढ़ाई शुरू की लेकिन अपने एक्ज़ाम लिखने के लिए सह-लेखक लेने की बजाए मैंने अपने पैरों से लिखने का फ़ैसला किया."

साहिल पैरों से लिखने का फ़ैसला लेने के कई कारण बताते हैं, "मुझे कई लोगों ने कहा कि राइटर ले लो, लेकिन मैं इस पक्ष मैं नहीं था. उसकी लेखनी ख़राब आ सकती थी, वो ग़लती कर सकता था. मैं किसी और के हाथ में अपनी भविष्य नहीं देना चाहता था इसलिए मैंने पैरों से लिखना शुरू किया."

कृत्रिम अंगों की अजब दुनिया

टेड 2014: सपनों में जान और हौसलों ने भरी उड़ान

हादसों के शहर का...एक मसीहा

साहिल ने दसवीं और बारहवीं की परीक्षा पैरों से ही लिखी है और इनमें 54 प्रतिशत और 74 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं. साहिल के मुताबिक़ इन परीक्षाओं को लिखने के लिए उन्हें एक घंटे का अधिक समय भी दिया गया था.

साहिल के हौसले और लगन को देखकर पुणे कॉलेज ऑफ़ ऑर्ट्स एंड कॉमर्स ने उन्हें बीकॉम में दाखिला दिया साथ ही उनकी फ़ीस भी माफ़ की.

पुणे कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर रफ़ीक सरख़्वास कहते हैं, "इस बच्चे की लगन और मेहनत दूसरे नॉर्मल बच्चों के लिए मिसाल बन सकती है. हम इस पर दया नहीं कर रहे, हम इसे मौका दे रहे हैं ताकि ये अपनी मंज़िल को पाने की कोशिश तो कर सके."

ड्रेन पाइप से कृत्रिम टांग बनाने वाला पाकिस्तानी डॉक्टर

जिसने ख़ुद के लिए 'असंभव' घुटना बनाया

नकली, पर असली से कम नहीं

साहिल का परिवार आर्थिक रूप से कमज़ोर है, साहिल का ध्यान रखने वाले उनके दादा अजीज़ शेख़ एक सब्ज़ी विक्रेता हैं और उनके पिता एक ट्रक ड्राइवर हैं और इसलिए साहिल सरकार की ओर से आर्थिक मदद की कई बार गुहार लगा चुके हैं.

चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने का सपना देखने वाले साहिल चाहते हैं, "मैं अपना और अपने परिवार का ध्यान रखना चाहता हूं और पढ़ाई और नौकरी की अहमियत समझता हूं. अगर सरकार की ओर से मुझे बैट्री चलित हाथ मिल जाएं तो मेरा जीवन और भी आसान हो सकता है."

फ़िलहाल साहिल सरकारी शिविर से मिले रबर के हाथों को पहनते हैं जिससे उन्हें संतुलन बनाने में आसानी होती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे