आदमखोर बाघिन के शिकार की हैरतअंगेंज़ दास्तान

  • 8 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Forest Department, Uttarakhand

रामनगर इलाक़े में यह चालाक और आदमखोर बाघिन महीनों से हम शिकारियों को छका रही थी. दो लोगों को मार चुकी थी और तीन को इसने ज़ख़्मी कर दिया था. जब हमें इसे मारने का काम सौंपा गया तो हमारे लिए भी यह आसान नहीं था.

मुझे तो लगता है कि शायद ख़ुद जिम कॉर्बेट भी इसका तब शिकार न कर पाते क्योंकि जितना तेज़ ये बाघिन सीख और सोच रही थी उतना तेज़ कोई जानवर उन्हें कभी मिला ही नहीं होगा.

केरल: आदमखोर बाघ को 'मारा'

पकड़ा गया आदमखोर बाघ

...ऐसे मिली आदमखोर बाघ से राहत

इमेज कॉपीरइट Forest Department, Uttarakhand

बाघिन को निशाने पर लेने के लिए ख़ुद मैं एक पिंजरे में चारा बनकर बैठा, पर वह नहीं आई. हमने चारे के लिए भैंस के बच्चे को भी लगाया. मगर उस पर भी उसने तब हमला किया जब उस दिन मचान पर कोई शिकारी नहीं था.

वह इतनी चालाक थी कि हमारे हांका लगाने पर भी कहीं छिपी बैठी रहती थी. अगर हम गन्ने के खेतों में हाथी उतारते तो वह लुकाछिपी करती रहती पर बाहर नहीं निकलती थी.

नीलगिरी का आदमखोर बाघ मारा गया

लंदन की सड़कों पर 'घूमते थे आदमखोर बाघ'

बांग्लादेश में बाघों का ख़ात्मा करने वाले माफ़िया

इमेज कॉपीरइट Forest Department, Uttarakhand

मैंने 2002 से लेकर अब तक 49 आदमखोर तेंदुओं और बाघों का शिकार किया है. मगर इतने चालाक जानवर से ये मेरी पहली मुठभेड़ थी.

डेढ़ महीने तक हम पांच शिकारी इस बाघिन के पीछे लगे रहे. जिस दिन 20 अक्टूबर को हमने उसे मारा तो उसे लगी तीन गोलियों में एक मेरी थी.

ख़तरनाक आदमख़ोर बाघ की तलाश

ख़तरनाक आदमख़ोर बाघ की तलाश में...

भारत में इंसानों पर बाघों के हमले क्यों बढ़ रहे हैं?

इमेज कॉपीरइट Forest Department, Uttarakhand

आप हमारी तैयारियों का अंदाज़ा इससे लगा सकते हैं कि उत्तराखंड वन विभाग ने 20 किलोमीटर के दायरे में 120 हेलिकॉप्टर ड्रोन और कैमरा ट्रैप लगाए थे ताकि वो बाघिन का पता लगा सकें.

मगर ये बाघिन भी कम चालाक नहीं थी. हमारी हर टेक्नोलॉजी से वो एक क़दम आगे रहती थी. जिस भी ट्रैप कैमरे ने उसकी एक बार तस्वीर ली, उसमें वह दोबारा नहीं दिखी.

एक बार तो उसके जिस रास्ते पर कैमरे की नज़र थी, उस पर वह कैमरे की नज़र से बचती हुई गुज़र गई.

कॉर्बेट में तीसरे बाघ की मौत

सुंदरवन की डरावनी दास्तान

'आदमखोर' नहीं था मैं: मनातु महूवार

इमेज कॉपीरइट Forest Department, Uttarakhand

जिस दिन यह बाघिन मारी गई उससे पिछली शाम को हम लोगों ने हांका लगाया था. इसमें उस दिन हाथी नहीं थे बल्कि लोगों ने इसे लगाया था.

एकाएक वह गन्ने के खेतों में से निकली और हमारी एक टीम के सामने आ गई. हमारी टीम के एक शिकारी ने तुरंत उस पर गोली दाग दी.

हालांकि यह बात हमें बाद में पता चली कि ये गोली उसके अगले पंजे के कोने में लगी थी. इस एक गोली के बाद तो ताबड़तोड़ गोलीबारी शुरू हो गई और वह घबराकर निकल भागी.

इमेज कॉपीरइट Forest Department, Uttarakhand

हांका लगाने वाले दल को ख़ून देखकर लगा कि अब वह यहीं-कहीं होगी. ये सोचकर उन्होंने जाल लगा दिए. शाम होने को थी.

तुरंत हम लोगों ने अंधेरा चीरने के लिए खेत में पांच जनरेटरों की मदद से सर्च लाइट्स लगा दीं ताकि वह कहीं और भाग न सके और डेढ़ सौ लोग खेत को घेरकर पूरी रात पड़े रहे.

अगली सुबह जब आख़िरी ऑपरेशन की तैयारी हो रही थी तो पता चला कि बाघिन नदारद है.

इमेज कॉपीरइट Lakhpat Rawat
Image caption शौकिया शिकारी और पेशे से टीचर लखपत रावत.

इतने लोगों की मौजूदगी के बावजूद वो शातिर बाघिन रोशनी और लोगों का घेरा तोड़कर बच निकल गई थी. तभी पता चला कि वह धान के खेत के बगल की झाड़ियों में छिप गई थी. तुरंत शिकारियों ने उसे वहां घेर लिया.

मैं और मेरे साथ दूसरे शिकारी हरीश धामी दोनों क़रीब 22 फ़ीट ऊंची एक मचान पर थे जहां से क़रीब 300 फ़ीट का इलाक़ा हमारी ज़द में था. जैसे ही हाथी के साथ हांका लगाया गया, मुझे मेरे सामने की झाड़ियां हिलती हुई दिखीं.

मैंने तुरंत गोली चला दी तो बाघिन ने एक तेज़ आवाज़ निकाली. मुझे लगा कि बाघिन ज़ख्मी हो गई है. मेरे पास ही दूसरे शिकारी जॉय हुकिल और मेरे असिस्टेंट हरी सिंह को भी पक्का यकीन हो गया था कि उसे गोली लग गई है.

जैसे ही ये साफ़ हुआ उन्होंने भी गोलियां चलानी शुरू कर दीं और इसके बाद हमने अंधाधुंध गोलीबारी की. हम लोगों ने क़रीब 30-32 राउंड गोलियां चलाई थीं.

इमेज कॉपीरइट Lakhpat Rawat

मगर आप ये देखिए कि इसके बावजूद बाघिन को सिर्फ़ तीन गोली लगी थीं- मेरी, जॉय हुकिल और हरी सिंह की. हुकिल की बंदूक़ हालांकि इससे पहले 20 नरभक्षी तेंदुओं को गिरा चुकी है.

मगर उनका कहना था कि ग़ुस्साए गांव वालों, तमाशबीनों, मीडिया और बाघिन का पीछा कर रहे फ़ॉरेस्ट के कर्मचारियों की वजह से ये पूरा मामला पेचीदा हो गया था.

वह मानते हैं कि पहले भी दो बार बाघिन को घेरकर मारने का मौक़ा हमें मिला था, पर तमाशबीनों की मौजूदगी की वजह से हम कोई रिस्क नहीं ले सकते थे. हालांकि हमें लगता है कि बाघिन को लेकर लोगों का डर और ग़ुस्सा बेवजह नहीं था.

इमेज कॉपीरइट Lakhpat Rawat

तल्ला गोजानी गांव की रहने वाली गोविंदी देवी को इस बाघिन ने 6 सितंबर को जिम कॉर्बेट पार्क से लगे जंगलों में मारा था, उनके घर से सिर्फ़ 200 मीटर दूर. यहां तक कि गोविंदी के बेटे ने इस घटना के बाद डर के मारे काम पर जाना छोड़ दिया था.

हमें लगता है कि वह आदमखोर इसलिए बनी क्योंकि छह साल की इस बाघिन के नाखून घिस गए थे और वह जंगली जानवरों का शिकार करने में चूक रही थी. इसलिए उसने आसान शिकार चुनने शुरू कर दिए थे. और ये शिकार थे जीते-जागते इंसान.

(स्थानीय पत्रकार राजेश डोबरियाल से हुई बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे