प्रेस रिव्यूः मुस्लिम स्कूल का हिंदू नाम रखने की माँग

  • 6 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Thinkstock

हिंदुस्तान टाइम्स ने लिखा है कि त्रिपुरा के उनाकोटी ज़िले में एक गांव है जुबराजनगर जो पूरी तरह मुस्लिम बहुल है लेकिन यहां मुस्लिम लड़कियों के एक स्कूल का नाम एक हिंदू महिला के नाम पर रखने की मांग उठ रही है.

जुबराजनगर में अकेली हिंदू महिला सुमति सूत्रधार ने 1999 में अपने पति की मौत के बाद अपनी ज़मीन शिक्षा विभाग को देने का फ़ैसला किया था.

पिछले साल 29 दिसंबर को उनका निधन हो गया था. शुरुआत में कुछ मुसलमानों ने उनकी ज़मीन पर बनने वाले स्कूल का विरोध किया था लेकिन पिछले 17 सालों में यहां से 550 से ज़्यादा छात्राएं पढ़ चुकी हैं.

सुमति सूत्रधार इसी स्कूल में एक छोटे से कमरे में रहती थीं.

अब गांववाले चाहते हैं कि उन्होंने अपनी ज़मीन दान देकर गांव की बच्चियों का भविष्य रोशन किया इसलिए इस स्कूल का नाम सुमति सूत्रधार के नाम पर रख दिया जाए.

प्रेस रिव्यू: '2000 के नोट से बापू ग़ायब'

प्रेस रिव्यू- 'एक ही पते पर 75 कंपनियां'

इमेज कॉपीरइट AFP

इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि केरल के मालापुरम ज़िले के नेदुमकायम गांव जिसे पहला कैशलेस आदिवासी गांव घोषित किया गया वहां न तो पानी है, न बिजली है, न शौचालय.

27 दिसंबर को मालापुरम के ज़िलाधिकारी ने नेदुकायम गांव के 27 लोगों के खातों में डिजिटल ट्रांज़ेक्शन के ज़रिए पांच रुपए ट्रांसफर किए थे और इसे देश का पहला कैशलेस आदिवासी गांव घोषित किया था.

हिंदुस्तान टाइम्स ने लिखा है कि भारत में 285 ज़िला सहकारी बैंकों में 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद चार कामकाजी दिनों में छह गुना ज़्यादा नक़दी जमा हुई है.

अख़बार के मुताबिक़ बैंक में लेन-देन के डेटा के विश्लेषण से पता चला है कि ज़िला सहकारी बैंकों ने आठ नवंबर से 14 नवंबर के बीच सरकारी बैंकों में 3,051 करोड़ रुपए जमा कराए हैं जबकि सात नवंबर को बैंकों ने 496.88 करोड़ रुपए जमा कराए हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने लिखा है कि समाजवादी पार्टी की अंतर्कलह में अखिलेश यादव का पलड़ा भारी नज़र आ रहा है. ऐसे में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस उत्तर प्रदेश में चुनावी समझौते की तरफ़ बढ़ रहे हैं.

अखिलेश यादव अगले हफ़्ते नौ जनवरी को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से दिल्ली में मुलाकात कर सकते हैं. इसमें कांग्रेस को चुनाव में 90-105 सीटों पर लड़ने का मौका मिल सकता है.

इमेज कॉपीरइट Twitter/Amarjeet Sohi

द हिंदू ने लिखा है कि वाइब्रेंट गुजरात समिट में हिस्सा लेने के लिए आ रहे कनाडा के दल की अगुवाई टाडा कानून के तहत पूर्व में पकड़े गए अमरजीत सोही करेंगे.

एक समय में उन्हें खालिस्तानी चरमपंथी करार दिए गए के तार नक्सलियों, एलटीटीई से जुड़े बताए जाते थे.

दो-चार दिन में ख़ालिस्तान की घोषणा हो जाती:जनरल बराड़

खालिस्तान समर्थकों पर पंजाब में राजनीति

अमरजीत सोही कनाडा में मूलभूत ढांचा और सामुदायिक मामलों के मंत्री हैं.

1988 में 24 वर्षीय अमरजीत सोही कनाडा चले गए थे, उनका परिवार पंजाब के संगरूर का रहने वाला है. वो भूमि अधिकार को लेकर थिएटर कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए भारत लौटे थे तब उन्हें टाडा कानून के तहत पकड़ा गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए