यादव परिवार के घमासान में दूसरी बहू का 'पेंच'

  • 10 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट Aparna Yadav FB Page

अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के बीच मंगलवार को करीब दो घंटे तक चली मुलाकात के बाद भी समाजवादी पार्टी का संकट बना हुआ है.

इस संकट के कारण पार्टी के अलग-अलग विधानसभाओं से घोषित उम्मीदवारों के सामने असमंजस की स्थिति बनी हुई है. लेकिन अपर्णा बिष्ट यादव पर इसका बहुत असर नहीं दिखता.

वे अपनी चुनावी तैयारियों में जुटी हुई हैं और हर दिन अपने विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार का काम देख रही हैं.

'अखिलेश झुके तो सीधे नंबर 3 पर पहुंच जाएंगे'

अखिलेश की लड़ाई में कहां खड़ी हैं डिंपल यादव?

अपर्णा बिष्ट यादव मुलायम सिंह के दूसरे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं और मुलायम सिंह ने उन्हें लखनऊ कैंट से अपना उम्मीदवार घोषित किया हुआ है.

समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता मोहम्मद शाहिद कहते हैं, "लखनऊ कैंट से वो हमारी उम्मीदवार हैं. इस स्थिति में अब तक कोई बदलाव नहीं है."

ऐसे में अहम सवाल ये है कि क्या अखिलेश यादव का गुट भी अपर्णा बिष्ट यादव को लखनऊ सीट से उम्मीदवार बनाएगा?

इमेज कॉपीरइट Aparna Bisht Yadav FB Page
Image caption अपर्णा बिष्ट यादव अपने पति प्रतीक यादव के साथ

इस सवाल को बल मिलने की एक वजह तो अखिलेश यादव की उम्मीदवारों की वो कथित सूची है, जिसमें लखनऊ कैंट वाली सीट पर उम्मीदवार का नाम खाली रखा गया है.

करीब दो महीने से जारी घमासान के बीच मीडिया में इस बात की रिपोर्टें भी आई हैं कि अखिलेश-मुलायम विवाद की एक वजह ये भी है कि मुलायम गुट में शामिल तमाम लोगों को ये लग रहा है कि नेताजी की राजनीतिक विरासत पर अखिलेश मज़बूती से काबिज होते जा रहे हैं.

अखिलेश के ये सात भरोसेमंद सिपाही

लखनऊ के वरिष्ठ राजनीतिक पत्रकार वीरेंद्र भट्ट कहते हैं, "2007 में एक अख़बार में ख़बर छपी अखिलेश मुलायम के उत्तराधिकारी. इस हेडलाइन पर मुलायम की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता ने इतना सख्त विरोध किया कि अख़बार को बाद में स्पष्टीकरण छापना पड़ गया था. वे अपर्णा को आगे बढ़ा रही हैं. ऐसी कोशिश 2014 में आजमगढ़ से मुलायम के दूसरे बेटे प्रतीक यादव को उम्मीदवार के तौर पर देने पर हुई थी, लेकिन प्रतीक यादव की ख़ुद राजनीति में बहुत दिलचस्पी नहीं है."

इमेज कॉपीरइट Aparna Bisht Yadav FB Page

इन सब आरोपों में दम इसलिए भी दिखता है क्योंकि अखिलेश के भरोसेमंद सहयोगी उदयवीर सिंह ने इस बाबत मुलायम सिंह यादव को चिट्ठी भी लिखी थी जिस पर काफ़ी विवाद हुआ था.

उत्तर प्रदेश की राजनीति पर नज़र रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार शरद गुप्ता कहते हैं, "अपर्णा का पारिवारिक मूल्यों में यक़ीन है पर हालात ऐसे हो गए हैं कि पिता और बेटे की लड़ाई में वो पिता के खेमे में नज़र आ रही हैं."

वरिष्ठ पत्रकार अंबिकानंद सहाय कहते हैं, "लोकप्रियता और लोगों के समर्थन हासिल करने के मामले में अब अखिलेश बहुत आगे निकल चुके हैं और परिवार के अंदर उन्हें किसी से कोई चुनौती मिलती नहीं दिख रही है."

अपर्णा को लखनऊ कैंट से उम्मीदवार बनाए रखने के बारे में अखिलेश यादव के सहयोगी ने (नाम ना ज़ाहिर करने की शर्त पर) बीबीसी से बताया, "परिवार में पहले से 20 लोग सक्रिय राजनीति में हैं. अभी तक तो अपर्णा के टिकट को डिस्टर्ब नहीं किया जा रहा है."

अंबिकानंद सहाय के मुताबिक इस विवाद से पहले मुलायम सिंह हमेशा ये कोशिश करते रहे हैं कि दोनों बेटों के परिवार पर बराबरी का ध्यान दे पाएं और इसी वजह से अपर्णा को टिकट देने का फ़ैसला लिया गया.

इमेज कॉपीरइट Aparna Bisht Yadav

ऐसे में बहुत संभव है कि अखिलेश अपर्णा का टिकट बरकरार रखते हुए अपने पिता के प्रति नरम रवैये का संकेत दे सकते हैं.

अपर्णा बिष्ट यादव के पिता और उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त अरविंद सिंह बिष्ट कहते हैं, "अपर्णा को चुनाव मैदान में उतारने का फ़ैसला परिवार का फ़ैसला था, परिवार के फ़ैसले के मुताबिक ही वो चुनाव प्रचार कर रही हैं."

परिवार के अंदर ही दो गुट उभर आने के बारे में अरविंद सिंह बिष्ट ने सबकुछ जल्दी ही ठीक हो जाने का भरोसा जताया है.

लेकिन अपर्णा बिष्ट यादव के पक्ष में दो बात ख़िलाफ़ जा सकती हैं- एक तो उनकी अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा है, जो जब-तब ज़ाहिर होती रही है.

वह सार्वजनिक मंचों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ कर चुकी हैं. राजनाथ सिंह से भी उनके अपने परिवार की नज़दीकी रही है.

ऐसे में अखिलेश, अपर्णा के बारे में जो भी फ़ैसला लेंगे, वो राजनीतिक तौर पर काफ़ी सोच समझ कर ही लेंगे.

दूसरी मुश्किल है ख़ुद लखनऊ कैंट की विधानसभा सीट है. 3.15 लाख मतदाताओं वाली इस सीट पर 60 हज़ार ब्राह्मण हैं, 50 हज़ार दलित, 40 हज़ार वैश्य और 30 हज़ार पिछड़े वर्ग के मतदाता. इस सीट से समाजवादी पार्टी ने कभी चुनाव नहीं जीता है.

इमेज कॉपीरइट Aparna Bisht Yadav FB Page

ये सीट भारतीय जनता पार्टी की गढ़ मानी जाती रही है और रीता बहुगुणा जोशी इसी सीट के भरोसे पर कांग्रेस से इस पार्टी में आई हैं. तो कांग्रेस में अब तक उनका समर्थन कर रहे लोग भी उनके साथ हो सकते हैं.

27 साल की अपर्णा बिष्ट 2011 में मुलायम परिवार की पुत्रवधू बनीं. अपर्णा और प्रतीक का विवाह प्रेम विवाह था और दोनों के बीच स्कूली दिनों में ही प्रेम हो गया था. बाद में दोनों ने इंग्लैंड में साथ साथ पढ़ाई की.

इमेज कॉपीरइट Aparna Bisht Yadav FB Page

सार्वजनिक जीवन में दिलचस्पी रखने वाली अपर्णा की संगीत में भी बेहद दिलचस्पी है. वह क्लासिकल और सेमीक्लासिकल संगीत की शिक्षा ले चुकी हैं और बहुत अच्छी सिंगर भी हैं.

संगीतकार साजिद-वाजिद के निर्देशन में उनका एक म्यूज़िकल एल्बम आ चुका है जिसे सैफई महोत्सव में मुलायम सिंह ख़ुद ज़ारी कर चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे