हाई कोर्ट ने बीएसएफ़ जांच मामले में रिपोर्ट मांगी

  • 17 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट TEJ BAHADUR YADAV

दिल्ली हाई कोर्ट ने सीमा पर तैनात फ़ौज के जवानों की शिकायत पर केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए कदमों के बारे में पूछा है.

पिछले दिनों बीएसएफ़ के एक जवान तेज बहादुर यादव ने सोशल मीडिया पर ख़राब खाना मिलने की शिकायत की थी.

जवानों ने सोशल मीडिया को क्यों बनाया हथियार?

भारतीय जवान के वीडियो की पाकिस्तान में ख़िल्ली उड़ी!

उन्होंने इसे लेकर एक वीडियो सोशल मीडिया पर डाला था. इसके बाद इस मामले में गृह मंत्रालय की ओर से जांच बैठाई गई थी.

चीफ़ जस्टिस जी रोहिणी और जस्टिस संगीता ढिंगरा सहगल की डिवीजन बेंच ने गृह मंत्रालय से जांच की मौजूदा स्थिति को लेकर रिपोर्ट मांगी है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव का वह वीडियो

बेंच ने पारामिलिट्री फोर्स, सेंट्रल इंडस्ट्रीयल सिक्योरिटी फोर्स, सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स, इंडो-तिब्बती बॉर्डर पुलिस, सशस्त्र सीमा बल और असम राइफल्स को भी नोटिस जारी किया है.

कोर्ट ने केंद्र सरकार के एक पूर्व कर्मचारी की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह कार्रवाई की है.

कोर्ट ने इस मामले में 27 फ़रवरी को होने वाली अगली सुनवाई से पहले नोटिस का जवाब मांगा है.

कोर्ट ने कहा है कि इस मामले में गृह मंत्रालय के जांच करने के फ़ैसले की बात पहले ही बताई जा चुकी है. अब इस मामले में मौजूदा जांच की स्थिति की रिपोर्ट पेश की जाए.

कोर्ट ने मंत्रालय के साथ-साथ पैरामिलिट्री फोर्से से भी जवाब मांगा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे