बेंगलुरु में प्रेमी पर 'तेज़ाब फेंकने' वाली महिला गिरफ्तार

  • इमरान क़ुरैशी
  • बेंगलुरू से, बीबीसी हिंदी डॉट कॉम के लिए
लिदिया

इमेज स्रोत, KASHIF MASHOOD

बेंगलुरू में प्रेमी पर तेज़ाब फेंकने वाली महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है.

बुधवार को पेशे से नर्स लिदिया यशपाल ने शादी से इनकार करने पर अपने प्रेमी पर तेज़ाब डाल दिया था. इसे बेंगलुरू में अपनी तरह का पहला मामला माना जा रहा है.

लिदिया यशपाल पर आरोप है कि उन्होंने 32 साल के जयकुमार पुरुषोत्तम के चेहरे पर तेज़ाब डाल दिया है.

उन पर अस्पताल के छुरे से चेहरे पर वार करने के भी आरोप हैं.

पुलिस का कहना है कि शहर में किसी पुरुष पर तेज़ाब हमले का ये पहला मामला है.

एक अनुमान के मुताबिक़ भारत में एसि़ड हमले के 1,000 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं. और लगभग सभी मामलों में पुरुषों ने हमले किए हैं और महिलाएं पीड़ित रही हैं.

पुरुषोत्तम की ओर से पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार लिदिया से उनका चार साल से प्रेम संबंध था और लिदिया उनसे शादी करना चाहती थी. लेकिन वे शादी से यह कह कर मना कर रहे थे कि धर्म अलग होने के कारण उनके माता-पिता नहीं मान रहे हैं.

पुलिस के पास दर्ज शिकायत के मुताबिक़ पुरुषोत्तम ने लिदिया से पिछले तीन महीनों से दूरी बना ली थी. और लिदिया ये जानकर बहुत गुस्से में थी कि पुरुषोत्तम शादी के लिए दूसरी लड़की की तलाश कर रहे हैं.

इमेज स्रोत, Reuters File Photo

इमेज कैप्शन,

कर्नाटक पुलिस

पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) एमएन अनुछेत ने बीबीसी हिंदी को बताया, "मैंने ऐसा मामला पहली बार देखा है. पिछले 12 साल के रिकॉर्ड में किसी महिला का पुरुष पर एसिड अटैक का कोई मामला नहीं मौजूद है. मैं दूसरे विभागों की बात नहीं कह सकता."

बेंगलुरू (पश्चिम) पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी कहते हैं, "शहर में इस तरह का ये पहला मामला है. मुझे याद नहीं कि किसी महिला ने किसी पुरुष पर तेज़ाब से हमला किया हो."

पुलिस को अभी लिदिया की न्यायिक हिरासत नहीं मिली है. लिदिया यशपाल को बुधवार को अदालत में हाजिर होना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)