प्रेस रिव्यू: मेघालय के राज्यपाल को हटाने की मांग

  • 26 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट http://meggovernor.gov.in/

द इंडियन एक्सप्रेस अख़बार की ख़बर है कि मेघालय के राज्यपाल वी. संगमुंगनाथन को शिलांग में राजभवन के कर्मचारी हटाने की मांग कर रहे हैं.

राजभवन में काम करनेवाले अधिकारी से लेकर चरपरासी तक 80 कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री कार्यालय और राष्ट्रपति भवन को एक चिट्ठी लिखकर राज्यपाल को तत्काल हटाने की मांग की है.

कर्मचारियों का आरोप है कि "राज्यपाल की हरकतों से राजभवन की प्रतिष्ठा और राजभवन के कर्मचारियों की भावनाएं आहत हुईं हैं."

चिट्ठी में लिखा है कि ये "हरकतें से गंभीर रूप से राजभवन की प्रतिष्ठा की अनदेखी" की गई है और इसे एक "युवा महिलाओं के क्लब" में तब्दील कर दिया गया है, जिससे राजभवन के कर्मचारियों को "मानसिक तनाव और तकलीफ़" हुई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के अनुसार निर्भया फंड से लगातार तीन सालों से एक पैसा भी नहीं ख़र्च किया गया है.

साल 2013 से हर बजट में 1000 करोड़ रूपये आवंटित किए जाते हैं लेकिन 2013 से हर साल की तरह 2015-16 में आवंटित धनराशि से एक रूपया भी ख़र्च नहीं किया जा सका.

दिसंबर 2012 में चलती बस में गैंगरेप की शिकार पैरामेडिक छात्रा के साथ की गई क्रूरता के बाद उसकी मौत हो गई थी.

जिसके बाद यूपीए सरकार ने 2013 से निर्भया फंड बनाया था जिसे महिलाओं की सुरक्षा पर ख़र्च किया जाना था.

लेकिन यूपीए सरकार की तरह ही एनडीए सरकार भी पिछले दो सालों से इस फंड के उपयोग के लिए कोई योजना तैयार नहीं कर पाई है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

नई दुनिया अख़बार की ख़बर के मुताबिक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जान से मारने की धमकी मिली है.

गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले उनके आधिकारिक ई-मेल अकाउंट पर एक गुमनाम ई-मेल भेजकर उन्हें ये धमकी दी गई है.

दिल्ली सरकार के गृह विभाग ने इस ई-मेल की जानकारी पुलिस आयुक्त को दी है. पुलिस मामले की जांच में जुट गई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

हिन्दुस्तान टाइम्स अख़बार की ख़बर के मुताबिक़ अगले साल मार्च तक दिल्ली के आश्रम चौक पर 750 मीटर लंबा एक अंडरपास बन जाएगा.

इससे रिंग रोड और मथुरा रोड पर लगने वाले जाम से छुटकारा मिल पाएगा.

आश्रम चौक से हर दिन रिकॉर्ड संख्या में करीब चार लाख 29 हज़ार गाड़ियां गुज़रती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए