मैं इंडियन हूँ और मैंने काले हिरण को नहीं मारा: सलमान

  • 27 जनवरी 2017
फ़िल्म अभिनेता सलमान ख़ान इमेज कॉपीरइट AFP

अभिनेता सलमान खान ने बहुचर्चित काला हिरण शिकार मामले में अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को सिरे से ख़ारिज कर दिया है.

उन्होंने कहा है कि वे पूरी तरह निर्दोष हैं और उन्हें जान बूझ कर फंसाया गया है.

जोधपुर से सलमान के वकील हस्तीमल सारस्वत ने बीबीसी से कहा, "जिरह के दौरान सलमान से 65 सवाल पूछे गए. उन्होंने इस मामले में अपने ऊपर लगाये गए सभी आरोपों को नकारते हुए कहा कि सुरक्षा कारणों से उनका बाहर निकलना मुमकिन ही नहीं था. उन्होंने कोई शिकार नहीं किया."

शिकार के दो मामलों में सलमान ख़ान बरी

राजस्थान सरकार सलमान के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सारस्वत के मुताबिक़, शूटिंग का कार्यक्रम बहुत व्यस्त रहता है और सलमान के पास समय ही नहीं था कि वे और कुछ कर सकें.

सलमान ने जोधपुर कोर्ट में कहा कि डॉ. नेपालिया की मेडिकल रिपोर्ट सही थी. लेकिन बाद में वन विभाग ने मेडिकल बोर्ड की फ़र्ज़ी रिपोर्ट दी. सलमान ने कहा कि एक स्थानीय अख़बार में ख़बर छपने के बाद वन विभाग ने उन्हें फंसाने के लिए मामला दर्ज कराया.

सलमान ने उनका नाम और जाति पूछे जाने पर खुद को 'इंडियन' और 'भारतीय' बताया.

काला हिरण शिकार मामले में सलमान के अलावा सैफ़ अली खान, सोनाली बेंद्रे, नीलम, तब्बू और दुष्यंत के नाम भी शामिल हैं. इन सभी अभियुक्तों के बयान शुक्रवार को दर्ज किए गए.

सोशल : 'केजरीवाल के पास भी सलमान के ख़िलाफ़ सबूत नहीं हैं'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सैफ़ अली ख़ान ने काला हिरण मामले में अपने ऊपर लगे तमाम आरोपों से इंकार किया है.

यह मामला 18 साल पुराना है. राजस्थान में फ़िल्म 'हम साथ साथ हैं' की शूटिंग के दौरान सलमान ख़ान और दूसरे कलाकारों पर दो काले हिरणों के शिकार का आरोप लगा था.

सैफ़ अली खान ने शिकार के लिए सलमान को उकसाने के आरोपों से इनकार कर दिया. सोनाली बेंद्रे, नीलम, तब्बू और दुष्यंत ने इस बात से इनकार किया कि वे उस जिप्सी में थे, जिसमें शिकार के वक़्त सलमान सवार थे.

सारस्वत ने बताया कि अगली सुनवाई 15 फरवरी को रखी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे