झारखंड: मंदिर में गला काटकर दी जान

  • 31 जनवरी 2017
इमेज कॉपीरइट niraj sinha

झारखंड के प्रसिद्ध छिन्नमस्तिका मंदिर में मंगलवार की सुबह एक व्यक्ति ने पूजा के दौरान गला काटकर जान दे दी.

रजरप्पा थाना के प्रभारी अतिन कुमार ने बताया कि मरने वाले व्यक्ति का नाम संजय नट था. वो बिहार के बक्सर जिले के बलिहार गांव के रहने वाले थे.

पुलिस के मुताबिक संजय ने धारदार कटार से अपना गला काट लिया. इससे गर्दन का बड़ा हिस्सा धड़ से अलग हो गया.

छिन्नमस्तिका मंदिर झारखंड की राजधान रांची से करीब सत्तर किलोमीटर दूर है.

मंदिर के मुख्य पुजारी असीम पंडा के मुताबिक सिद्धपीठ के तौर पर मशहूर इस मंदिर में बकरे की बलि की भी परंपरा है.

झारखंड में भक्तों ने गुरू की बलि दी

खज़ाने के लालच में मासूमों की बलि?

इस बीच रामगढ़ जिले के प्रभारी अनुमंडलाधिकारी महावीर प्रसाद ने मंदिर परिसर का जायजा लिया.

उन्होंने मृतक के परिजन से बातचीत भी की.

प्रसाद ने बीबीसी को बताया कि ये तथ्य सामने आए हैं कि संजय नट पर देवी भक्ति का जुनून सवार था. हो सकता है इसी आवेग में उन्होंने अपना गला काट लिया होगा.

उन्होंने बताया कि पुलिस को ये भी जानकारी मिली है कि संजय नट ओड़िशा में सीआरपीएफ के जवान के तौर पर तैनात थे. हालांकि इस बारे आधिकारिक तौर पर जानकारी जुटाई जा रही है.

इमेज कॉपीरइट niraj sinha

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए हजारीबाग भेजा है और हथियार जब्त कर लिया है.

पुलिस को संजय के पास कागज का टुकड़ा मिला है, जिस पर उसके नाम और पते के साथ मोबाइल नंबर दर्ज है.

मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज से पुलिस को जानकारी हुई कि संजय नट सुबह मंदिर के पट खुलने के साथ पूजा करने पहुंच गए थे. पहले उन्होंने कई दफा मंदिर की परिक्रमा की.

स्थानीय लोगों ने उन्हें सोमवार की रात मंदिर परिसर के एक होटल में खाना खाते देखा था.

बच्ची की बलि के मामले में चार को फाँसी

'देवी के आदेश' पर बेटी की बलि

मंदिर के मुख्य पुजारी असीम पंडा ने बताया कि सुबह हुई इस घटना के बाद तत्काल पूजा-अर्चना रोक दी गई.

संजय नट के शरीर का पूरा खून फर्श पर बह गया था. इस घटना से वहां मौजूद लोग सकते में आ गए थे.

पुजारी के मुताबिक घटना के बाद मंदिर के शुद्धिकरण का काम शुरू हुआ.

इमेज कॉपीरइट niraj sinha

पुलिस से मिले फोन नंबर के आधार पर जब संजय नट की पत्नी शारदा देवी से संपर्क किया गया तो वो बहुत कुछ बताने की स्थिति में नहीं थीं. लेकिन उन्होंने ये जानकारी दी कि वो बीस दिनों की छुट्टी पूरी करने के बाद रविवार को दिन में ड्यूटी पर जाने की बात कहकर निकले थे.

नेपालः जारी रहेगी पशुओं की बलि

संजय नट ने परिवार वालों से कहा था अब वे अगली दफा वैशाख महीने में घर आएंगे.

शारदा देवी ने बताया कि वो पूजा पाठ तो करते थे, लेकिन इसका कभी अभास नहीं था कि वे रजरप्पा जाकर इस तरह की घटना को अंजाम देंगे.

क्या वे सीआरपीएफ में तैनात थे, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि वो उड़ीसा पुलिस में थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)