'निज़ाम बदला है, लोग नहीं बदले'

  • 19 मार्च 2017

योगी आदित्यनाथ ने रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली तो उनके समर्थकों में जबर्दस्त उत्साह दिखा. योगी आदित्यनाथ को हिंदुत्व के तेज-तर्रार चेहरे के रूप में देखा जाता रहा है.

योगी के सूबे की कमान संभालने पर क्या रही अल्पसंख्यक समुदाय की प्रतिक्रिया, इसे जानने के लिए बीबीसी संवाददाता सलमान रावी पुराने लखनऊ के मौलवीगंज इलाक़े में पहुंचे.

बीबीसी हिंदी फेसबुक लाइव में उन्होंने मुस्लिम युवाओं की प्रतिक्रिया जानने की कोशिश की कि योगी के सीएम बनने को लेकर वो क्या सोचते हैं?

ये हैं योगी आदित्यनाथ के सिपहसालार

'अगर भारत में रहना है तो योगी मोदी कहना है'

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ, केशव-दिनेश उप-मुख्यमंत्री

इमेज कॉपीरइट PTI

मुख्यमंत्री पद के लिए योगी का नाम आने के बाद कहा जा रहा था कि इससे मुस्लिम समुदाय में ख़ौफ़ का माहौल है.

लेकिन यहां लोगों ने खुलकर कहा कि डर की कोई बात नहीं है, 'निज़ाम बदला है पर लोग तो वही हैं. हम लोग लंबे समय से एक साथ रहे हैं, एक साथ होली, ईद, दिवाली मनाते हैं.'

टीम योगीः वो बातें जो आपको पता होनी चाहिए

उनका कहना था, "हमें पहले भी विकास की उम्मीद थी और अभी भी है. हो सकता है कि इस सरकार में कुछ अच्छा हो.

मध्य लखनऊ के विधानसभा क्षेत्र का ये मुस्लिम बहुल इलाक़ा है और यहां से बीजेपी उम्मीदवार बृजेश पाठक को जीत मिली है.

यहां के लोगों का कहना है कि चुनाव में पाठक को मुस्लिम वोट भी पड़ा है.

इमेज कॉपीरइट BJP Twitter

एक बुज़ुर्ग व्यक्ति का कहना था, "योगी के आने से मुसलमान परेशान हैं ये बात ग़लत है. ऐसी कोई बात नहीं है, यहां हम सब हमेशा खुश रहे हैं चाहे कोई भी हुक़ूमत रही हो."

मुस्लिम समुदाय को वोटबैंक की तरह इस्तेमाल करने के सवाल पर एक शख़्स कहते हैं, "ऐसी बात नहीं है, बसपा सरकार में मुसलमानों को काफी फ़ायदा मिला था और इस बार भी उम्मीद थी उससे काफ़ी कुछ मिलेगा."

हालांकि बहुत सारे लोग अभी इस बात पर असमंजस में दिखे कि सत्ता संभालने के बाद योगी का रवैया क्या रहता है.

एक युवा ने कहा, "हम चाहते हैं कि जैसा उन्होंने सबका साथ सबका विकास का नारा दिया है, वो इसी को अमल में लाएं ताकि सभी धर्मों, समुदाय के लोग राजी खुशी से रह सकें."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक युवा का कहना था कि इससे पहले भी यूपी में बीजेपी की सरकार रह चुकी है, "जब अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी तो अमौसी हवाईअड्डे पर हाजियों के लिए विशेष सुविधा की शुरुआत की गई थी. हमें उम्मीद है कि ये सरकार भी मुस्लिमों से जुड़े मुद्दों को तवज्जो देगी."

हालांकि अधिकांश लोगों का मानना है कि योगी की छवि एक कट्टर हिंदू नेता की रही है लेकिन सत्तासीन होने के बाद उनके रुख में बदलाव आएगा.

भाजपा ने विधानसभा चुनावों में किसी भी मुसलमान व्यक्ति को टिकट नहीं दिया था, लेकिन मंत्रिमंडल में पूर्व क्रिकेटर मोहसिन रज़ा को शामिल किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे