जहां जिन्ना ने बनाई थी बंटवारे की योजना

मोहम्मद अली जिन्ना, महात्मा गांधी

इमेज स्रोत, Kulwant Roy/Topical Press Agency/Hulton Archive/Ge

मुंबई के 'जिन्ना हाउस' पर विवाद थमता हुआ नहीं दिख रहा है. शनिवार और रविवार को सोशल मीडिया पर 'डेमोलिश जिन्ना हाउस' ट्रेंड करता रहा.

शुक्रवार को शिवसेना सांसद राहुल शेवाले ने लोकसभा में जिन्ना हाउस को गिराने की मांग की.

इससे तीन दिन मुंबई के एक बीजेपी विधायक ने महाराष्ट्र विधानसभा की कार्यवाही के दौरान जिन्ना हाउस को गिराए जाने की मांग उठाई थी.

ऑडियो कैप्शन,

वो शादी जिसने भारत को हिला दिया

जिन्ना हाउस की कुछ खास बातें

  • दक्षिणी मुबंई के मालाबार हिल इलाके में ये बंगला पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना का घर हुआ करता था. तब उसे साउथ कोर्ट कहा जाता था.
  • ढाई एकड़ जमीन पर फैला जिन्ना हाउस समंदर किनारे स्थित है. इसके निर्माण में इतालवी संगमरमर और अखरोट की लकड़ी का इस्तेमाल किया गया था.
  • इंग्लैंड से लौटने के बाद जिन्ना ने इसे 1936 में बनवाया था. लगभग इसी समय मुस्लिम लीग का पूरा नियंत्रण जिन्ना के हाथ में आ गया था.
  • जिन्ना इस घर में मुल्क के बंटवारे तक रहे. इसके बाद वे कराची चले गए. कहते हैं कि जिन्ना ने अपनी निगरानी में साउथ कोर्ट के निर्माण का काम पूरा करवाया था.
  • यूरोपीय शैली की इस इमारत की डिजाइन ब्रितानी वास्तुकार क्लॉड बेटली ने तैयार की थी. इसे बनवाने में उस जमाने में दो लाख रुपये खर्च हुए थे.
  • साउथ कोर्ट की ऐतिहासिक अहमियत का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि यह गांधी और नेहरू के साथ जिन्ना की बातचीत का गवाह रहा है.

इमेज स्रोत, Topical Press Agency/Getty Images

मिल्कियत पर दावा

गिराये जाने की मांग के अलावा जिन्ना हाउस की मिल्कियत पर कई लोगों के दावे हैं.

जिन्ना की बेटी और उद्योगपति नुस्ली वाडिया की मां दीना वाडिया ने कोर्ट में इस प्रॉपर्टी पर दावा कर रखा है.

फिलहाल जिन्ना हाउस भारत सरकार के नियंत्रण में है, लेकिन पाकिस्तान भी अपने कायद-ए-आज़म के घर पर दावा जताता है.

दीना वाडिया के मुकदमे के दौरान विदेश मंत्रालय ने कोर्ट को बताया कि जिन्ना ने ये घर वसीयत में अपनी बहन फ़ातिमा जिन्ना के नाम कर दिया था.

इस बजट सत्र में पारित शत्रु संपत्ति संशोधन अधिनियम के बाद भारत सरकार जिन्ना हाउस की मालिक बन गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)