बिहार: टॉपर हिरासत में, रिज़ल्ट निलंबित

  • 2 जून 2017
गणेश इमेज कॉपीरइट Seetu tewari

बिहार बोर्ड ने बारहवीं के आर्ट्स टॉपर गणेश का परीक्षाफल निलंबित कर दिया है. पुलिस ने पटना में उन्हें हिरासत में ले लिया है.

गणेश के परीक्षा परिणाम के निलंबन के बाद दूसरे स्थान पर आई नेहा अब बिहार बोर्ड की बारहवीं की आर्ट्स टॉपर बन गई हैं.

बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि गणेश ने परीक्षा फॉर्म में गलत जानकारियां दी थी.

आनंद किशोर ने बताया, "गणेश ने इससे पहले 1990 में मैट्रिक की परीक्षा दी थी जिसमें उन्होंने अपनी जन्मतिथि 7/11/1975 लिखवाई थी. अब इंटर की परीक्षा में उन्होंने अपनी जन्मतिथि 2/6/1993 दर्ज करवाई है."

इमेज कॉपीरइट Seetu tewari

आनंद किशोर बताते हैं कि गणेश ने 1990 में मैट्रिक की परीक्षा झारखंड के सीरिया (गिरीडीह) के सीआरएसएआर विद्यालय से दी थी. और तब उन्होंने गणेश राम नाम से परीक्षा दी थी. जबकि मौजूदा बारहवीं की परीक्षा में उन्होंने अपना नाम गणेश कुमार लिखा है.

गणेश ने बारहवीं की परीक्षा 413 अंक लाकर टॉप किया है. लेकिन उनके टॉपर बनने के बाद से ही स्थानीय मीडिया में उन पर सवाल लगातार उठ रहे थे.

इंटर की परीक्षा उन्होंने समस्तीपुर के चकहबीब के रामनंदन सिंह जगदीप नारायण उच्च विद्यालय से दी है.

बिहार बोर्ड परीक्षा में करीब आठ लाख छात्र फेल

टॉपर घोटाला: बिहार बोर्ड प्रमुख का इस्तीफा

इमेज कॉपीरइट Seetu tewari

गौरतलब है कि मौजूदा बारहवीं के परीक्षा फॉर्म में उन्होंने 2015 में समस्तीपुर के लक्षमीनिया से मैट्रिक में पास होना दिखाया है.

'फर्स्ट टॉपर का ये हाल तो सेकेंड टॉपर का क्या'

आनंद किशोर ने साफ किया है कि गणेश की कॉपियों में कोई कमी नहीं है.

इस साल बिहार बोर्ड के इंटर के 64 फीसदी छात्र फेल हो गए हैं. इसे लेकर लोगों से काफी असंतोष हैं. लेकिन बोर्ड का दावा है कि परीक्षा में नकल नहीं करने दी गई जिसके चलते ये नतीजे आए हैं.

इस बीच, गणेश ने अपने ऊपर लगे आरोपों का खंडन किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे