अमरीकी फंड के लिए नहीं किया था पेरिस समझौता: हर्षवर्धन

हर्षवर्धन

इमेज स्रोत, Getty Images

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है कि भारत ने अमरीका से फंड हासिल करने के लिए नहीं, बल्कि आने वाली पीढ़ियों का भविष्य सुधारने के लिए पेरिस समझौता किया था.

बीबीसी हिंदी से बातचीत में उन्होंने कहा कि अमरीका के पेरिस समझौते से अलग होने से भारत के पर्यावरण के मोर्चे पर आगे बढ़ते रहने की प्रक्रिया पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने पिछले दिनों 2015 के पेरिस जलवायु समझौते से अलग होने की घोषणा की थी और कहा था कि इसका सबसे अधिक फ़ायदा चीन और भारत जैसे विकासशील देशों को होगा.

दुनियाभर में कार्बन उत्सर्जन के मामले में चीन सबसे आगे है और उसके बाद अमरीका. प्रति व्यक्ति कार्बन उत्सर्जन की बात करें तो भारत इस मामले में काफी पीछे है.

2015 के पेरिस समझौते में अमरीका ने ग़रीब और विकासशील देशों को प्रोद्योगिकी उन्नतीकरण के लिए 300 करोड़ डॉलर देने का वादा किया था, लेकिन ट्रंप के इस पैंतरे के बाद अब इसपर भी असमंजस की स्थिति है.

इमेज स्रोत, Getty Images

लेकिन हर्षवर्धन नहीं मानते कि ट्रंप के इस फ़ैसले का भारत की प्रतिबद्धता पर कोई असर पड़ेगा.

हर्षवर्धन कहते हैं, "पूरे भारत के लोग और ख़ासकर प्रधानमंत्री मोदी की इस मामले में सोच स्पष्ट है. पिछले दिनों वो कह भी चुके हैं और भारत इस समझौते से पीछे नहीं हटेगा."

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पर्यावरण में सुधार की पहल एक बात है, लेकिन देश में पर्यावरण से जुड़ी परियोजनाओं में सुस्ती के लिए भी मोदी सरकार की आलोचनाएं होती रहती हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
विवेचना

नई रिलीज़ हुई फ़िल्मों की समीक्षा करता साप्ताहिक कार्यक्रम

एपिसोड्स

समाप्त

नमामि गंगे जैसी परियोजनाएं पिछले तीन सालों में कहाँ पहुँची हैं, हर्षवर्धन कहते हैं, "इन परियोजनाओं पर गहराई से काम हो रहा है, हालाँकि इसके नतीजे दिखने में समय लगेगा."

हालाँकि पर्यावरण मंत्री ने माना कि जितनी तेज़ी से इस दिशा में काम हो रहा है उससे कहीं अधिक तेज़ी से काम होना बाकी है.

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने गंगा नदी से प्रदूषण को समाप्त करने के लिए नमामि गंगा नामक एकीकृत गंगा संरक्षण मिशन शुरू किया था. सरकार का दावा था कि करीब 20,000 करोड़ रुपये खर्च कर गंगा नदी की सफाई की जाएगी और 2020 तक इसे पुनर्जीवित कर दिया जाएगा.

(बीबीसी संवाददाता दिनेश उप्रेती से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)