वैज्ञानिक और शिक्षाविद पद्मविभूषण प्रोफेसर यशपाल का निधन

  • 25 जुलाई 2017
प्रोफेसर यश पाल इमेज कॉपीरइट RAVEENDRAN/AFP/Getty Images

प्रख्यात शिक्षाविद और वैज्ञानिक यशपाल दिल्ली से सटे नोएडा में मंगलवार को निधन हो गया. वो 90 वर्ष के थे.

प्रोफ़ेसर यशपाल लंबे समय से बीमार थे. कॉस्मिक किरणों पर उनकी स्टडी को विज्ञान की दुनिया में बड़े योगदान के तौर पर देखा जाता है.

इतना हीं नहीं उनका नाम देश के बड़े साइंस कम्युनिकेटर्स में भी शुमार होता है. प्रोफ़ेसर यशपाल ने अपना करियर टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ फंडामेंटल रिसर्च से शुरू किया था.

प्रोफ़ेसर यशपाल 1986 से 1991 तक विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के चेयरमैन भी रहे.

उन्हें भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

अंतरिक्ष कार्यक्रम

26 नवंबर, 1926 को झांग (पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक शहर) में जन्मे यशपाल की परवरिश हरियाणा के कैथल में हुई.

यशपाल ने पंजाब यूनिवर्सिटी से 1949 में फिजिक्स में मास्टर्स किया और 1958 में उन्होंने मैसेचुएट्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नॉलॉजी से फिजिक्स में ही पीएचडी की उपाधि हासिल की.

यशपाल उन लोगों में से थे जिन्हें भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम का जनक कहा जा सकता है.

साल 1972 में जब भारत सरकार ने पहली बार अंतरिक्ष विभाग का गठन किया था तो अहमदाबाद नए गठित किए गए स्पेस एप्लिकेशन सेंटर के डायरेक्टर की जिम्मेदारी उन्हें ही सौंपी गई थी. ये 1973 की बात है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे