कड़ी सुरक्षा के बीच भारत की आज़ादी का जश्न

  • 15 अगस्त 2017
स्वतंत्रता दिवस इमेज कॉपीरइट AFP

भारत आज अपना 71वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. इस मौके पर दिल्ली में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है.

अर्धसैनिक बल के 80,000 जवानों के साथ साथ 10,000 पुलिसकर्मियों को भी सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए तैनात किया गया है.

पुलिस ने पुरानी दिल्ली में करीब 500 कैमरे लगाए हैं. साथ ही ऊंची इमारतों की छतों पर और लाल किले पर दिल्ली पुलिस के कमांडो को तैनात किया गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

लाल किले पर तिरंगा फहराने की तैयारी और दिल्ली में चरपमंथियों के ख़तरे से लड़ने के लिए तैयारी कर रही पुलिस के सामने एक और बड़ा ख़तरा रहा.

'हिंदुस्तान टाइम्स' के अनुसार मुग़ल कालीन इस किले में जहरीले सांप और छिपकली हैं. इसी किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री देश की संबोधित किया.

पहली बार स्वतंत्रता दिवस के लिए लाल किले को तैयार करने के लिए पुलिस ने वन विभाग की मदद ली.

राष्ट्रपति कोविंद का पहला संबोधन, 10 बड़ी बातें

'लाल किले से प्रधानमंत्री बताएं नोटबंदी के फायदे'

'जागरण' में छपी एक ख़बर के अनुसार बरेलवी मरकज़ से जुड़े क़रीब 150 मदरसों ने स्वतंत्रता दिवस मनाने को ले कर जारी उत्तर प्रदेश सरकार के आदेश को मानने से इंकार कर दिया है.

दरगाह आला हजरत में हुई बैठक में देशभर के जुटे उलेमा ने तय किया है कि मदरसों में तिरंगा फहराया जाएगा, मिठाई बांटी जाएगी, लेकिन राष्ट्रगान नहीं गाया जाएगा.

लेकिन इक़बाल का लिखा गाना 'सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा' खुशी से गाया जाएगा.

15 अगस्त को मदरसों में वीडियोग्राफ़ी पर विवाद

'70 साल बाद भी मुसलमान वफादार नहीं?'

इमेज कॉपीरइट AFP

'डेली पायोनियर' में छपी एक ख़बर के अनुसार गोरखपुर में कथित तौर पर ऑक्सीजन सप्लाई रुकने के कारण बच्चों की मौतों पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर कमीशनखोरी चल रही थी.

अख़बार के अनुसार उन्होंने कहा है कि कॉलेज ने ऑक्सीजन सप्लाई का भुगतान करने के लिए शासन से 68 लाख रुपयों की मांग की थी.

शासन ने अगस्त में 2 करोड़ रूपये जारी कर दिए थे, लेकिन कॉलेज ने छह दिन बाद मात्र 20 लाख का ही भुगतान किया. स्वास्थ्य मंत्री ने इसकी वजह कमीशनखोरी बताई है.

इमेज कॉपीरइट EPA

'इंडियन एक्सप्रेस' में छपी एक ख़बर के अऩुसार दिल्ली से भाजपा नेता आरपी सिंह ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक चिट्ठी लिख कर कहा है कि महिलाओं से शौचालयों के इस्तेमाल के लिए शुल्क ना वसूल किया जाए.

आरपी सिंह का कहना है कि शौचालय के लिए शुल्क वसूल किए जाने के कारण गरीब महिलाएं खुले में शौच जाने के लिए मजबूर होती हैं. एक परिवार के लिए महिलाओं का ये खर्च प्रति माह लगभग 300-400 रुपए तक हो सकता है.

उन्होंने कहा है कि दिल्ली सरकार को महिलाओं के लिए ऐसी जगहों का भी निर्माण करवाना चाहिए जहां वो नहा सकें.

केजरीवाल आजकल मोदी पर इतने ख़ामोश क्यों?

केजरीवाल और रामू की सरकार

इमेज कॉपीरइट Reuters

'द स्टेट्समैन'में छपी एक ख़बर के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को संकेत दिए हैं कि जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के विशेष अधिकारों से संबंधित संविधान के अनुच्छेद 35ए को चुनौती देने वाली याचिका पर पांच सदस्यीय संविधान पीठ सुनवाई कर सकती है.

जस्टिस दीपक मिश्रा तथा जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ ने सुनवाई के लिए आई याचिका को पहले ही लंबित ऐसी ही एक अन्य याचिका के साथ संलग्न कर दिया है जिस पर इस महीने के आखिर में तीन न्यायाधीशों की खंडपीठ सुनवाई करने वाली है.

'कश्मीर में जो हो रहा है उससे दिल्ली ख़ुश होगी'

‘डिजिटल इंडिया’ के सपने से कश्मीर क्यों है दूर?

इमेज कॉपीरइट Reuters

'जनसत्ता' में छपी एक ख़बर के अनुसार सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में हिज़बुल मुजाहिद्दीन कमांडर यासीन इटू उर्फ़ गजनवी के मारे जाने के बाद हिज़बुल ने उनकी जगह मोहम्मद बिन कासिम को कश्मीर का अपना फील्ड ऑपरेशन कमांडर बनाया है.

अख़बार के अनुसार हिज़बुल के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा है कि पाकिस्तान प्रशासित मुज़फ्फराबाद में सैयद सलाहुद्दीन की अध्यक्षता में उनकी कमान परिषद की बैठक हुई थी जिसमें कासिम को नया कमांडर चुना गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)