अब कैफ़ियत एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 25 घायल

  • 23 अगस्त 2017
रेल दुर्घटना इमेज कॉपीरइट Twitter/RailMinIndia

उत्तर प्रदेश में आज़मगढ़ से दिल्ली आ रही कैफ़ियत एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई है.

ये हादसा बुधवार की सुबह कानपुर के पास औरैया में हुआ. ट्रेन एक डंपर से टकरा गई और ट्रेन के इंजन सहित 10 डिब्बे पटरी से उतर गए.

इमेज कॉपीरइट Abhay Tripathi
Image caption इंजन समेत 10 डिब्बे पटरी से उतरे

रेलवे क्रॉसिंग पर डंपर से टक्कर

रेलवे का कहना है कि दुर्घटना में 25 लोग घायल हुए हैं जिनमें 21 लोग मामूली रूप से घायल हैं. घायलों को औरैया सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

इमेज कॉपीरइट Abhay Tripathi
Image caption 2 बजकर 40 मिनट पर हादसा

नॉर्थ सेंट्रल रेलवे के जन संपर्क अधिकारी अमित मालवीय के मुताबिक ट्रेन हादसा रात करीब 2 बजकर 40 मिनट पर उस समय हुआ जब अछल्दा और पाता रेलवे स्टेशन के बीच एक रेलवे क्रॉसिंग पर डंपर से ट्रेन का इंजन टकरा गया. टक्कर इतनी ज़बरदस्त थी कि ट्रेन इंजन के साथ कई डिब्बे पटरी से उतर गए.

इमेज कॉपीरइट Abhay Tripathi
Image caption दिल्ली-हावड़ा रूट प्रभावित

स्पेशल ट्रेन भेजी गई

रेलवे के डीजी पीआरओ अनिल सक्सेना ने बीबीसी को बताया कि बचाव अभियान शुरू हो चुका है और स्पेशल ट्रेन वहां भेजी गई है.

उन्होंने कहा कि यह दुर्घटना दिल्ली-हावड़ा रूट पर हुई है जिससे इस रूट के प्रभावित होने की आशंका है.

इमेज कॉपीरइट Abhay Tripathi
Image caption रेल मंत्री की बचाव कार्य पर नज़र

वहीं, दुर्घटना के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्वीट किया और बताया कि कुछ यात्री घायल हुए हैं और उनको नज़दीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है और वह व्यक्तिगत रूप से स्थिति और बचाव कार्य की निगरानी कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

एक हफ़्ते में दूसरा बड़ा हादसा

इस दुर्घटना के बाद रेलवे ने अलग-अलग जगहों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter@RailMinIndia

एक हफ़्ते के अंदर उत्तर प्रदेश में यह दूसरा ट्रेन हादसा है.

इससे पहले 19 अगस्त की रात को मुज़फ्फ़रनगर के खतौली के पास हुए कलिंग उत्कल एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने से 21 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि कई घायल हुए थे.

भारत में अब तक हुए बड़े रेल हादसे

चीनः 350 किलोमीटर की रफ्तार से फिर दौड़ेगी बुलेट ट्रेन

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे