लखीमपुर में लड़की पर तलवार से हमला, काटे हाथ

  • 24 अगस्त 2017
पीड़ित लड़की इमेज कॉपीरइट SHARAD
Image caption पुलिस ने लड़की के मामा सुशील कुमार त्रिवेदी की शिकायत पर एफ़आईआर दर्ज की है

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर ज़िले में एक युवक ने 13 साल की एक लड़की पर तलवार से हमला करके उसके एक हाथ की हथेली काट दी.

लड़की के शरीर पर और भी कई जगह गंभीर ज़ख़्म हैं और वो अस्पताल में ज़िंदगी और मौत से संघर्ष कर रही है.

लखीमपुर के पुलिस अधीक्षक एस. चेंन्नप्पा ने बीबीसी को बताया कि अभियुक्त को गिरफ़्तार करके जेल भेज दिया गया है और अस्पताल में लड़की के इलाज में हर संभव मदद की जा रही है.

लड़की पर हमला बुधवार की शाम उस वक़्त हुआ जब वो अपनी नेत्रहीन मां के साथ पास में ही रहने वाले अपने मामा के घर जा रही थी.

लखीमपुर के एसपी चेन्नप्पा कहते हैं, "वैसे तो अभी ये पता चला है कि मोबाइल चार्जर या सिम को लेकर कहासुनी हुई थी और उसी के बाद युवक ने लड़की पर हमला किया लेकिन पुलिस दूसरी वजहों की भी जांच कर रही है क्योंकि शिकायत में ये भी कहा गया है कि लड़की को पहले भी परेशान करके की कोशिश की गई है."

इमेज कॉपीरइट Sharad
Image caption फ़िलहाल लड़की को लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय के अस्पताल शिफ़्ट कर दिया गया है

लड़की का विरोध

लखीमपुर शहर के बाबूराम सर्राफ नगर में रहने पीड़ित लड़की निघासन इलाक़े से गुज़र रही थी तभी अभियुक्त लड़के ने कथित तौर पर उसके साथ छेड़-छाड़ की कोशिश की.

बताया जा रहा है कि लड़की के विरोध के बाद अभियुक्त तलवार लेकर आया और फिर उसे बीच सड़क पर दौड़ाने लगा.

स्थानीय लोगों के मुताबिक इसी दौरान उसने लड़की पर तलवार से हमला कर दिया. बाद में स्थानीय लोगों ने ही उस लड़के को पकड़कर पुलिस के हवाले किया.

पुलिस ने पास में ही रहने वाले लड़की के मामा सुशील कुमार त्रिवेदी की शिकायत पर एफ़आईआर दर्ज की है.

सुशील कुमार त्रिवेदी ने बीबीसी को बताया, "लड़की अपनी माँ के साथ बैटरी चार्ज कराने हमारे घर आ रही थी. जिस लड़के को पुलिस ने गिरफ़्तार किया है, वो पहले भी कई बार लड़की के साथ छेडछाड़ कर चुका है. लड़की के बड़े भाई को कुछ दिनों पहले इन लोगों ने मारा-पीटा भी था और इन्हीं के डर के कारण हम लोगों ने उसे राजस्थान भेज दिया जहां वो मज़दूरी कर रहा है."

लड़की के मामा के मुताबिक अभियुक्त अपराधी क़िस्म के हैं और उनके परिवार के दूसरे लोगों के ख़िलाफ़ कई आपराधिक मुक़दमे भी चल रहे हैं.

लड़की के पिता पिछले काफ़ी दिनों से बीमार हैं और अपने गांव में ही रहते हैं. पीड़ित लड़की अपनी छोटी बहन और मां के साथ शहर में ही रहती है और पास में ही उसके मामा का परिवार रहता है.

फ़िलहाल लड़की को लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय के अस्पताल शिफ़्ट कर दिया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए