पुलवामा में दो चरमपंथियों समेत 10 की मौत

  • 27 अगस्त 2017
पुलवामा में भारतीय सुरक्षा बलों और चरमपंथियों के बीच मुठभेड़ इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत प्रशासित कश्मीर के पुलवामा ज़िले के एक पुलिस परिसर में चरमपंथियों के आत्मघाती हमले में आठ सुरक्षाकर्मी और दो अज्ञात चरमपंथी मारे गए हैं.

पुलिस के मुताबिक एक तीसरा चरमपंथी भी मारा गया है, लेकिन उसका शव अभी तक बरामद नहीं हुआ है.

हमले के बाद, पुलिसकर्मियों के परिवार के सभी सदस्यों को परिसर से सुरक्षित निकाल लिया गया और वहां बंधक जैसी कोई स्थिति नहीं है.

कश्मीर में अलगाववादियों के पास कहां से आता है पैसा?

नज़रिया: जम्मू कश्मीर में आफ़्स्पा हटाने की छूट क्यों नहीं?

चरमपंथ के ख़िलाफ़ सेना का साथ क्यों दे रहे कश्मीरी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अंधाधुंध फ़ायरिंग कर घुसे चरमपंथी

अधिकारियों ने बताया कि शनिवार की सुबह करीब 3.45 बजे पुलिस परिसर में ग्रेनेड हमले और अंधाधुंध फ़ायरिंग के बाद चरमपंथी अंदर घुस गए.

जम्मू और कश्मीर पुलिस के महानिदेशक एस. पी. वैद ने बीबीसी को बताया कि इस मुठभेड़ में अब तक आठ सुरक्षाकर्मी और दो चरमपंथी मारे गए हैं.

उन्होंने कहा कि एक चरमपंथी इमारत से बाहर निकलकर अंधाधुंध फायरिंग करने लगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मारा गया चरमपंथी

वैद ने बीबीसी को बताया, "बिल्डिंग से बाहर निकल कर उसने अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी, लेकिन उसे मौके पर ही मार गिराया गया."

इस मुठभेड़ में हताहतों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि कई सुरक्षाकर्मी घायल हुए हैं और इनमें से कई की हालत गंभीर बनी हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बदले की कार्रवाई

भारतीय सेना ने कश्मीर घाटी में बड़े पैमाने पर इस साल चरमपंथ विरोधी ऑपरेशन शुरू किया है जिसे 'ऑपरेशन ऑल आउट' का कोड नाम दिया गया है.

चरमपंथियों के इस ताज़ा हमले को बदले की कार्रवाई के रूप में देखा जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंटरनेट सेवा बंद

सात महीने पहले शुरू किए गए इस ऑपरेशन में अब तक 140 से अधिक चरमपंथी मारे गए हैं.

एक अधिकारी ने बताया, "यह इस साल तीसरा आत्मघाती हमला है."

ज़िले में क़ानून और व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने के लिए अधिकारियों ने ज़िले में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को एहतियातन बंद कर दिए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए