राम रहीम 'कैदी नं. 8647' की जेल में दिनचर्या क्या

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दो महिलाओं से बलात्कार के मामले में 10-10 साल की सज़ा पाने वाले डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में कैदी नंबर 8647 बन गए हैं.

हरियाणा के सिरसा स्थित डेरे में शानो-शौकत और ऐशो-आराम की ज़िंदगी बिताने वाले गुरमीत सिंह को जेल में सिर्फ वही सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं जो दूसरे कैदियों को मिलती हैं.

हरियाणा के अतिरिक्त सचिव (गृह) राम निवास ने बीबीसी को बताया कि गुरमीत सिंह को जेल मैनुएल के मुताबिक ही सुविधाएं दी गई हैं.

जज ने गुरमीत राम रहीम को कहा 'जंगली जानवर'

गुरमीत राम रहीम बाबा से बलात्कारी कैसे बने?

इमेज कॉपीरइट EPA

गुरमीत सिंह अपने पहनावे के लिए चर्चित रहे हैं. सोशल मीडिया पर तरह-तरह के कपड़ों में उनकी तस्वीरें सामने आती रही हैं.

डेरे से जुड़े लोगों ने भी जानकारी दी है कि वो शाही अंदाज़ के कपड़े पहनना पसंद करते हैं.

लेकिन, जेल में उन्हें दूसरे क़ैदियों जैसे कपड़े ही दिए गए हैं.

रोहतक की सुनारिया जेल के सुपरिटेंडेंट सुनील सांगवान ने गुरमीत सिंह राम रहीम को लेकर किए गए सवालों के जवाब देने से इनकार कर दिया.

उनका कहना था कि गुरमीत सिंह पर मौजूद ख़तरे को लेकर वो उनसे जुड़ी कोई जानकारी नहीं दे सकते हैं. हालांकि उन्होंने ये ज़रूर बताया कि जेल की सुरक्षा व्यवस्था चौकस है.

राम रहीम सिंह पर चीन ने भारत को सुनाई खरी-खरी

गुरमीत राम रहीम सिंह की सज़ा पर क्या बोले बाबा रामदेव?

हालांकि, जेल सूत्रों ने पत्रकार रविंदर सिंह रॉबिन को गुरमीत सिंह की मंगलवार की दिनचर्या के बारे में जानकारी दी.

  • गुरमीत सिंह राम रहीम को जेल के नियम के मुताबिक सुबह जगाया गया.
  • सुबह नौ बजे जेल के कर्मचारियों ने उन्हें जानकारी दी कि बाकी क़ैदियों की तरह उनकी दिनचर्या क्या होगी.
  • सज़ा पाने वाले सभी कैदियों को काम करना होता है. गुरमीत सिंह राम रहीम को दो में से एक काम चुनने का विकल्प दिया गया.
  • उन्हें पूछा गया कि वो माली का काम करना चाहते हैं या फिर जेल में चलने वाली फैक्ट्रियों में काम करेंगे?
  • गुरमीत सिंह ने पहले तो काम करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. 11 बजे उनकी काउंसलिंग हुई, उसके बाद वो काम करने के लिए तैयार हो गए.
  • दोपहर में उन्हें खाने के लिए रोटी और दाल दी गई. गुरमीत सिंह ने रात को खाना नहीं खाया था. दोपहर में भी उन्होंने खाने से मना कर दिया, लेकिन जेल कर्मियों ने थाली उनके पास ही छोड़ दी. बाद में उन्होंने खाना खा लिया.
  • खाना खाने के बाद गुरमीत सिंह ने थोड़ी देर आराम भी किया.
  • गुरमीत सिंह राम रहीम की बाकी क़ैदियों से मुलाकात नहीं हुई. उन्होंने जेलकर्मियों से भी सीमित बातचीत की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे