क्या अनीता की आत्महत्या पर होगी रोहित वेमुला जैसी राजनीति?

  • 3 सितंबर 2017
अनीता इमेज कॉपीरइट Twitter

तमिलनाडु के अरियलूर ज़िले में 17 साल की लड़की एस अनीता की आत्महत्या ने राजनीतिक शक्ल अख़्तियार करना शुरू कर दी है.

अनीता सुप्रीम कोर्ट में नीट परीक्षा के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ रही थीं जिसके ख़िलाफ़ फैसला आने के बाद उन्होंने बीते शुक्रवार को आत्महत्या कर ली है.

इसके बाद से चेन्नई में छात्र संगठनों ने विरोध प्रदर्शनों को शुरू कर दिया है.

'हमारी जाति का नहीं, हत्या के कारणों का पता लगाएं'

'दलितों-मुसलमानों के लिए असुरक्षित है भारत'

'वेमुला की मां ने दलित होने का ढ़ोंग किया'

अनीता का एक वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर अनीता का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह लोगों से मेडिकल की पढ़ाई करने में मदद करने की मांग करते दिख रही हैं.

इस वीडियो में अनीता कह रही हैं, "मैंने इस साल 12वीं की परीक्षा में 1200 नंबरों में से 1176 हासिल किए हैं. मैंने गणित और भौतिक विज्ञान में 200 में से 200 नंबर हासिल किए हैं. मेडिकल की पढ़ाई करना मेरी महत्वाकांक्षा है. मेरे पिता कुली हैं और मेरे चार बड़े भाई हैं. मेरी मां 10 साल पहले गुज़र गई थीं. मेरे दोस्तों मुझे मेडिकल की पढ़ाई करने में मदद करें."

इमेज कॉपीरइट Twitter/AdmkFails

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, अनीता को मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी में एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कोर्स में दाखिला लेने का ऑफ़र दिया गया था लेकिन उन्होंने उस ऑफ़र को ठुकरा दिया क्योंकि उन्हें डॉक्टर बनना था.

मोदी सरकार दलित-वंचित विरोधी

समाज सेवी कविता कृष्णन ने ट्विटर पर मोदी सरकार की आलोचना करते हुए लिखा है कि ये सरकार वंचितों तक शिक्षा पहुंचने के ख़िलाफ़ है.

बीबीसी से बात करते हुए कविता कृष्णन ने कहा, "इस सरकार ने पहले तो तमिलनाडु असेंबली की मांग का समर्थन किया था कि नीट की परीक्षा को तमिलनाडु से अलग रखा जाए. लेकिन जब मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो केंद्र सरकार ने अपनी पोजिशन बदल दी और सुप्रीम कोर्ट तमिलनाडु की पेटिशन खारिज कर दी. मेरा कहना है कि जब तमिलनाडु ने अच्छी मेडिकल की पढ़ाई होती है, वहां स्वास्थ्य सेवाएं भी बेहतर हैं फ़िर क्यों अनीता जैसी बच्चियों का जीवन नष्ट कर रहे हैं"

कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से जारी ट्वीट में कहा गया है कि एक अयोग्य सरकार ने एक पूरी तरह तैयार किए बिना नीट परीक्षा को सामने रखा और अनीता जैसी बच्चियों को नीचे दिखाया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

दलित लड़की होने पर विवाद शुरू

सोशल मीडिया पर सेलिब्रिटीज़ के अनीता को दलित लड़की कहकर बुलाने पर विवाद ख़ड़ा हो गया है.

द न्यूज़ मिनट की मुख्य संपादक धन्या राजेंद्रन ने ट्वीट करते हुए लिखा, "तमिलनाडु से एक हिलाने वाली ख़बर ये है कि सुप्रीम कोर्ट में नीट परीक्षा के ख़िलाफ़ केस लड़ने वाली एक दलित लड़की अनीता ने आत्महत्या कर ली है."

इमेज कॉपीरइट Twitter/AdmkFails

राजेंद्रन के इस ट्वीट पर अब तक ढाई हज़ार से अधिक लोगों ने रिप्लाई किया है जिनमें लोग अनीता को दलित लड़की कहने पर ऐतराज़ जता रहे हैं.

ट्विटर यूज़र जोसेफ़ीन दफ़ाने ने अन्य मीडिया संस्थानों द्वारा दलित शब्द प्रयोग करने पर आपत्ति जताई है. वह कहती हैं कि अनिता दलित नहीं तमिल लड़की थी.

इमेज कॉपीरइट Twitter

चेन्नई में स्टूडेंट फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने इस मामले में सड़कों पर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है.

बीते साल हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या ने राष्ट्रीय राजनीति को हिलाकर रख दिया था और वेमुला की जाति को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का लंबा दौर चला था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए