हिंदू म्यांमार से बांग्लादेश क्यों भाग रहे हैं?

  • 2 सितंबर 2017
रोहिंग्या हिंदू इमेज कॉपीरइट Emrul kamal

म्यांमार में जारी हिंसा की वजह से लगभग 500 रोहिंग्या हिंदू भी अपना घर छोड़ने को मजबूर हो गए हैं. इनमें बड़ी संख्या में महिलाएं व बच्चे शामिल हैं.

इनमें से बहुत से लोगों ने बांग्लादेश के कुटुप्लोंग शरणार्थी शिविर के पास बने एक मंदिर में शरण ली है.

आख़िर कौन हैं रोहिंग्या मुसलमान

बौद्ध बहुल म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों पर कई तरह के प्रतिबंध हैं. यहां कई सालों से रोहिंग्या और बौद्धों के बीच संघर्ष चल रहा है. इस संघर्ष की वजह से दसियों हज़ार रोहिंग्या मुसलमान जान बचाकर बांग्लादेश भाग चुके हैं.

'रोहिंग्या मुसलमानों के 700 से अधिक घर जलाकर तबाह किए'

इमेज कॉपीरइट BBC burmese

गांव में आग लगा दी

कुटुप्लोंग शरणार्थी शिविर में शरण लेकर रह रहे रोहिंग्या हिंदुओं ने बीबीसी को बताया कि आखिर वे अपना घर छोड़कर भागने को मजबूर क्यों हुए.

शरणार्थी हिंदुओं ने बताया कि फकीराबाज़ार नामक गांव में सबसे ज्यादा हिंसा हुई है. उस गांव की रहने वाली दुर्बाहाला ने कहा कि उनके घरों को आग लगा दी गई, लोगों को मार डाला गया. इन सब वजहों से वे अपना घर छोड़कर भागने को मजबूर हुए. दुर्बाहाला ने बताया कि उनके गांव में लगभग 400 हिंदू रहते थे, सभी गांव छोड़ चुके हैं.

जान बचाकर म्यांमार से बांग्लादेश भाग रहे हैं हिंदू

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक और शरणार्थी बाकुबाला ने बताया कि उसका घर चिआंगछारी में पड़ता है, जोकि फकीराबाज़ार से कुछ किलोमीटर की दूरी पर है. बाकुबाला की बेटी का ससुराल फकीराबाज़ार में है.

बाकुबाला के पति अपनी बेटी से मिलने फकीराबाज़ार गए थे लेकिन वापस लौटकर न आ सके. बाकुबाला के पति, बेटी और पोते की हत्या कर दी गई.

क्या बाकुबाला उन हमलावरों को पहचानती हैं? इस सवाल के जवाब में वे कहती हैं ''सभी हमलावर चेहरे पर काला कपड़ा बांध कर आए थे इसलिए मैं उनका चेहरा नहीं देख पाई, मैने सिर्फ उनकी आंखे देखी. वे बर्मी और बंगाली में बात कर रहे थे और उनके पास चिकनछुरी हथियार था.

फकीराबाज़ार के अलावा रिक्ता गांव और चिआंगछारी में रहने वाले हिंदू भी अपना-अपना घर छोड़कर बांग्लादेश की तरफ भागने को मजबूर हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे