अबू सलेम को उम्र क़ैद, मोनिका बेदी कहां हैं?

  • 7 सितंबर 2017
मोनिका इमेज कॉपीरइट Twitter

टाडा अदालत ने अबू सलेम को मुंबई बम धमाकों के मामले में उम्र क़ैद की सज़ा सुनाई है.

अबू सलेम को साल 2005 में पुर्तगाल से उनकी गर्लफ्रैंड मोनिका बेदी के साथ भारत लाया गया था.

अबू सलेम पर अपनी दोस्त मोनिका बेदी के लिए सना मलिक क़माल के फ़र्ज़ी नाम से पासपोर्ट पासपोर्ट बनवाने का आरोप था.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस मामले में दोनों के प्रत्यर्पण के बाद 2006 में मोनिका बेदी को धोखाधड़ी के आरोप में पांच साल की सज़ा सुनाई गई थी.

मोनिका से प्यार और गुलशन कुमार...

सलेम पर किताब लिखने वाले हसन ज़ैदी लिखते हैं कि अबू सलेम के नाम कोई बड़े मामले थे ही नहीं लेकिन गुलशन कुमार की हत्या के बाद वो कुख़्यात हो गए.

इसके बाद उन्हें मोनिका बेदी से प्यार हो गया और उन्होंने उनसे शादी कर ली.

इमेज कॉपीरइट Twitter

हसन ज़ैदी बताते हैं, "अमरीका में उनका एक पेट्रोल पंप है और एक छोटा सा थिएटर हैं और कुछ संपत्ति है जहां समीरा आज भी रहती है. नॉर्वे में मोनिका बेदी के माता पिता रहते थे."

इमेज कॉपीरइट AFP

लिस्बन उन्हें महफूज़ जगह लगी और वो वहां बसना चाहते थे.

लेकिन अमरीका और भारत के बीत एक सहमति बनी थी कि वो एक दूसरे को अपने यहां छिपे अपराधियों के बारे में बताएंगे.

लिस्बन के बाद सलेम और मोनिका

मोनिका बेदी और अबू सलेम को लिस्बन के एक होटल से गिरफ़्तार किया गया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इसके बाद दोनों को भारत लाया गया जहां उनके ख़िलाफ़ चले कोर्ट केस में मोनिका को पांच साल की सज़ा सुनाई गई.

लेकिन मोनिका बेदी ने इसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.

मोनिका बेदी इसके बाद बिगबॉस सीज़न टू से लेकर कई टीवी धारावाहिकों में नज़र आ चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

आजकल क्या कर रहीं हैं मोनिका बेदी?

इन दिनों मोनिका बेदी के ट्विटर अकाउंट पर नज़र डालें तो वह मॉडलिंग करती दिख रही हैं.

एक मध्यम दर्जे के सिने सितारों जैसे प्रोजेक्ट्स पर काम करती नज़र आ रही हैं.

ट्विटर पर मोनिका बेदी को एक लाख पंद्रह हज़ार लोग फॉलो करते हैं.

रैंप पर मॉडलिंग से लेकर छोटे-मोटे विज्ञापनों में नज़र आती मोनिका अपने अबू सलेम से जुड़े अध्याय से आगे बढ़ती नज़र आ रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए