सोशल: ...तो गुजरात में 'विकास पगला गया है'!

  • 11 सितंबर 2017
अमित शाह इमेज कॉपीरइट Getty Images

गुजरात में इन दिनों ट्विटर पर '‪#विकास_पगला_ गया_ है' ट्रेंड कर रहा है. लोग ट्विटर पर वर्तमान सरकार के विकास के दावों का मज़ाक बना रहे हैं.

पिछले दिनों हुई बारिश के बाद सड़कों में बने गड्ढे की तस्वीर लोगों ने ख़ूब शेयर की. लोगों ने तस्वीर शेयर करते हुए सवाल किया कि क्या यही विकास है?

पहले पोस्ट में '‪#विकास' का इस्तेमाल किया जा रहा था. धीरे-धीरे बात आगे बढ़ती गई और इसने ‪'‪#विकास_पगला_ गया_ है' का रूप ले लिया.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

धवल खत्री ने गड्ढों वाली तस्वीर शेयर करते हुए लिखा है, "भारत का पहला स्मार्ट सिटी, जहां हर घर में व्यक्तिगत स्वीमिंग पुल हैं. दूर रहना विकास पगला गया है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

जिगर महाराज ने ट्विटर पर गुजरात के एक गांव में पुल टूटने की घटना की तस्वीर शेयर कर लिखा है, "विकास पगला गया है. दूर रहो क्योंकि वो लटक रहा है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

सुनील पटेल ने लिखा है, "सभी से मेरी नम्र विनती है कि अपने बच्चे का नाम विकास मत रखिएगा. क्योंकि जब आपका बच्चा घर से बाहर निकलेगा तो लोग बोलेंगे कि विकास पगला गया है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

विकास पगला गया है ट्विटर हैंडल भी बन चुके हैं. इस हैंडल से एक फोटो शेयर की गई है, जिसमें ट्रेन की पटरियां पानी में डूबी है. यह लिखा गया है, "विकास क्यों दिखाई नहीं देता? इतने में एक बुजुर्ग ने कहा- विकास बुलेट ट्रेन में बैठा है, इसलिए दिखाई नहीं दे रहा है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

तूफानी पाटीदार ट्विटर हैंडल से लिखा गया है, "2017 में गड्ढे को ध्यान में रखकर सरकार 2022 में नया विकास ला रही है. भक्तजन उत्सव की तैयारी करें."

सोशल मीडिया पर लोग इस हैशटैग से राज्य सरकार से सवाल भी कर रहे हैं. लगातार कई दिनों तक सरकार को ट्विटर पर ट्रोल किए जाने के बाद मुख्यमंत्री विजय रुपानी को इस पर प्रतिक्रिया देनी पड़ी.

एक सभा में मुख्यमंत्री ने कहा, "हमारी सरकार में तो विकास पगला गया है, लेकिन कांग्रेस की सरकार में भ्रष्टाचार पगला गया था."

इसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को अहमदाबाद में आयोजित एक सभा में युवाओं को संबोधित करते हुए कि कहा वे भाजपा विरोधी प्रोपेगेंडा से सतर्क रहें. उन्होंने युवाओं को अपना दिमाग लागने की सलाह दी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए