प्रेस रिव्यू- चीन सिक्किम में नाथुला पर बातचीत के लिए तैयार

  • 13 सितंबर 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक चीन ने कहा कि वह फिलहाल ब्रह्मपुत्र नदी का जलीय आकंड़ा भारत के साथ साझा नहीं कर सकता क्योंकि तिब्बत में आंकड़ा संग्रहण केंद्र को अद्यतन किया जा रहा है. हालांकि उसने यह कहा कि वह तिब्बत में कैलाश और मानसरोवर आ रहे भारतीय तीर्थयात्रियों के लिए सिक्किम में वास्ते नाथुला को फिर से खोलने के वास्ते भारत से संवाद जारी रखने को तैयार है.

डोकलाम विवाद के चलते मध्य जून में यह बातचीत बंद दी गयी थी.

बीजिंग में चीन के विदेश मंत्री के प्रवक्ता गेंग सुआंग ने यहां मीडियाकर्मियों से कहा, "लंबे समय तक हमने भारतीय पक्ष के साथ नदी आंकड़े पर सहयोग किया. लेकिन चीन में संबंधित स्टेशन को अद्यतन करने को लेकर फिलहाल हम इस स्थिति में नहीं हैं कि नदी के प्रासंगिक आंकड़े जुटा पाएं."

जब उनसे पूछा गया कि कब चीन आंकड़े देगा, जो डोकलाम विवाद के कारण कथित रूप से देना बंद कर दिया गया था, उन्होंने कहा, "हम इस पर बाद में विचार करेंगे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक अमरीका से मिली होवित्जर तोप टेस्टिंग के दौरान हादसे का शिकार हो गई है, लेकिन इसमें कोई शख्स घायल नहीं हुआ.

बोफोर्स सौदे के बाद पहली बार भारतीय सेना के लिए तोप खरीदने की प्रक्रिया आगे बढ़ी थी, तभी हादसा हुआ है. मई में दो अल्ट्रा लाइट होवित्जर M-777 तोपें भारत आई थीं. इन्हें राजस्थान के पोखरण भेजा गया था, वहां भारतीय गोलाबारूद से इनकी टेस्टिंग चल रही थी.

फील्ड फायरिंग के जरिए इनकी रेंज टेबल तैयार की जा रही थी, जिससे यह पता लग सके कि किस एंगल से कितनी दूरी तक फायरिंग हो सकेगी. इन तोपों की रेंज 24 से 40 किलोमीटर बताई गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

द पायनियर के मुताबिक इस साल एच1एन1 वायरस के कारण होने वाले स्वाइन फ्लू से देशभर में मरने वालों की संख्या 1415 हो गई है. अखबार ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा है कि इस साल 9 महीनों में देशभर में स्वाइन फ्लू के कुल 29,076 मामले दर्ज किए गए, जबकि पिछले साल ये आंकड़ा 1,786 था.

खबर के मुताबिक पिछले साल स्वाइन फ़्लू से 265 मौतें हुई थी. महाराष्ट्र में सबसे अधिक 504 लोगों को मौत हुई है, जबकि गुजरात में 367 और राजस्थान में 100 लोगों की स्वाइन फ़्लू से मौत हुई है.

द हिंदू के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और एनसीआर में पटाखों की बिक्री और खुदरा कारोबार के सभी लाइसेंस निलंबित करने संबंधी नवंबर 2016 के अपने आदेश में संशोधन किया. स्थाई लाइसेंस निलंबन कुछ वक्त के लिए हटाया गया है और दीवाली के बाद हवा की गुणवत्ता के मद्देनजर इसकी समीक्षा की ज़रूरत पड़ सकती है.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया कि 2016 के मुकाबले अस्थाई लाइसेंस में 50 फीसदी की कटौती करें और अधिकतम 500 लाइसेंस ही जारी करें. सरकार और प्राधिकरण व्यक्तिगत रूप से पटाखे चलाने के स्थान पर सामूहिक तौर पर पटाखे चलाने को प्रोत्साहन देने पर विचार करें. कोर्ट ने त्योहारों के दौरान पटाखे चलाने से लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों के अध्ययन के लिए समिति का गठन किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे