जापानियों के लिए 'कृष्णलीला' से 'ला टोक्यो' बन गया गुजराती होटल

  • 14 सितंबर 2017
होटल का बदला हुआ नाम इमेज कॉपीरइट Sagar Patel
Image caption 'जापानी' बन रहे हैं गुजराती होटल

ऑटोमोबाइल उद्योग और इससे जुड़ी परियोजनाओं ने गुजरात की तस्वीर बदल दी है.

बहुत सी चीज़ें यहां नई आई हैं और बहुत कुछ ग़ायब हो गया है. बदलाव की इस प्रक्रिया में जापानी व्यंजनों वाले रेस्तरां के रूप में नई कड़ियां जुड़ी हैं.

बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास करने के लिए अहमदाबाद आए जापान के प्रधानमंत्री के स्वागत में सड़कों का नवीनीकरण हुआ है. वहीं खान-पान के ऐसे ठिकाने भी सामने आ रहे हैं जो कभी गुजराती थे, लेकिन यहां जापानी लोगों के के लिए उन्होंने अपना रूप बदल लिया है.

साणंद के पास 'कृष्णलीला' नाम के एक होटल ने इस साल फरवरी में न सिर्फ अपना नाम बदल लिया, बल्कि अपना पूरा मेन्यू भी बदल डाला.

इमेज कॉपीरइट Sagar Patel
Image caption पहले होटल का नाम कृष्ण लीला हुआ करता था.

बड़ी संख्या में रहते हैं जापानी नागरिक

वाहन बनाने वाले कारखानों में काम करने के लिए भारत आए बहुत से जापानी अहमदाबाद में रहते हैं. अब बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट शुरू होगा, ऐसे में इलाके में जापानियों की संख्या और बढ़ सकती है.

साणंद के पास पहले ही ऐसे बहुत कारखाने हैं, जहां जापानी नागरिक काम करते हैं. होटल कृष्णलीला में बहुत जापानी मेहमान आया करते थे. इसलिए दो साल पहले खुले इस होटल ने इस साल फरवरी में अपना नाम बदलकर 'ला टोक्यो' रख लिया.

इमेज कॉपीरइट Sagar Patel

सबकुछ जापानी

ग्राहकों को अच्छा महसूस करवाने के लिए नाम और मेन्यू में बदलाव करने के साथ-साथ होटल ने इंटीरियर और साज-सज्जा को भी बदल दिया है. मेन्यू की भाषा, साइन बोर्ड और होर्डिंग अब इंग्लिश के साथ-साथ जापानी भाषा में हैं.

होटल के कमरों में जापानी टीवी चैनल्स आते हैं और ग्राहकों को जापानी साहित्य, अखबार और पत्रिकाएं भी मुहैया करवाई जाती हैं. ला टोक्यो विशुद्ध जापानी पकवान परोसता है.

इमेज कॉपीरइट SAGAR PATEL

पहले यह होटल पूरी तरह शाकाहारी व्यंजन परोसा करता था, मगर अब मेन्यू में नॉन-वेज आइटम ज़्यादा हैं और उनमें भी सी-फ़ूड ज़्यादा है.

ला टोक्यो के शेफ जीवन लांबा वैसे तो नेपाल से हैं, मगर पिछले 10 सालों से जापानी व्यंजन पका रहे हैं. लांबा ने बताया कि जापानियों को ऑलिव ऑयल में कम आंच पर पका खाना ज्यादा पसंद है. स्थानीय बाज़ारों मे जापानी चीज़ें और खाद्य सामग्री मिलने में मुश्किल होती है, इसलिए होटल गुरुग्राम से इनका इंतज़ाम करता है.

इमेज कॉपीरइट SAGAR PATEL

होटल के मालिक घणश्याम सिंह बताते हैं, "बहुत सी कंपनियां अहमदाबाद में कारखाने लगा रही हैं. इसलिए बहुत से जापानी कर्मचारी आकर यहां ठहरते हैं. आने वाले दिनों में जापानी चीज़ों की मांग भी यहां बढ़ जाएगी. अगर हम इस बदलाव को समझ पाते हैं तो गुजरातियों के लिए बिज़नेस की कई संभावनाएं पैदा कर सकते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे