बुलेट ट्रेन के साथ जापान धक्का लगाने वाले 'पुशर' भी देगा!

  • 14 सितंबर 2017
जापान की बुलेट ट्रेन इमेज कॉपीरइट Getty Images

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे ने भारत में पहले बुलेट ट्रेन नेटवर्क के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया है.

ये ट्रेन अहमदाबाद से मुंबई के बीच दौड़ेगी. इसकी ज़्यादातर फ़ंडिंग जापान के मिलने वाले $17 अरब (क़रीब 1088 अरब रुपये) के कर्ज़ से होगी.

किस रफ़्तार और किन रास्तों से दौड़ेगी बुलेट ट्रेन?

भारत में पहला बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट लॉन्च, 7 ख़ास बातें

उम्मीद जताई जा रही है कि इससे 500 किलोमीटर की यात्रा करने में अभी लगने वाला 8 घंटे का समय घटकर तीन घंटे का रह जाएगा.

भीड़ कैसे संभलेगी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेकिन मेट्रो हो या लोकल या फिर राज्यों को आपस में जोड़ने वाली रेलगाड़ी, सभी के प्लेटफॉर्म पर आए दिन भीड़ बढ़ रही है.

दिल्ली मेट्रो और मुंबई लोकल में सफ़र करने वाले ख़ास तौर से जानते होंगे कि पीक टाइम में इन दोनों में सवार होना अपने आप में कोई जंग जीतने जैसा है.

सोशल: 'पहले जो ट्रेन हैं, उन्हें तो पटरी पर रोक लो'

इसे देखते हुए लगता है कि हमें जापान से बुलेट के साथ-साथ वहां की एक और सौगात चाहिए होगी.

जापान के ओशिया काम आएंगे

इमेज कॉपीरइट Getty Images

और ये सौगात है - ओशिया. जापानी में ओसु का मतलब है धक्का देना और या के मायने हैं लाइन. यानी ओशिया का मतलब हुआ धक्का देकर लाइन में लगाना.

साधारण अंग्रेज़ी में उन्हें The Train Pusher कहा जाता है. इन लोगों की ज़िम्मेदारी होती है कि सभी मुसाफ़िर ट्रेन में सवार हो जाएं और कोई भी दरवाज़ों के बीच में ना फंसे.

जापान में 'पुशर' को सबसे पहले शिनजुकु स्टेशन पर लगाया गया था और इन्हें तब 'पैसेंजर अरेंजमेंट स्टाफ़' कहा गया.

पार्ट टाइम या फ़ुल टाइम

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इनमें ज़्यादातर छात्र शामिल थे जो पार्ट टाइम काम करते थे. और अब मेन लाइन पर पीक टाइम में स्टेशन स्टाफ़ या पार्ट टाइम वर्कर ये ज़िम्मा संभालते हैं.

amusingplanet.com के मुताबिक जापान की राजधानी टोक्यो में दौड़ने वाली ट्रेन की फ्रीक्वेंसी पीक आवर में दो-तीन मिनट हो जाती है, लेकिन इसके बावजूद भीड़ काबू में नहीं आती.

सबवे के डब्बों में दोगुने मुसाफ़िर चढ़ाने के लिए स्टेशन में यूनिफ़ॉर्म स्टाफ रहता है जिन्हें ओशिया या पुशर कहते हैं.

कहां से शुरू हुई परंपरा?

इमेज कॉपीरइट AFP

इनका लक्ष्य होता है कि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को कैरिज में चढ़ा दिया जाए. साथ ही वो इस बात का ख़्याल भी रखते हैं कि ट्रेन में सवार होने वाले लोगों को कोई चोट ना पहुंचे.

जब भीड़ ट्रेन में सवार होने की कोशिश कर रही होती है और पुशर उनकी मदद में जुटे रहते हैं तब तक ड्राइवर इंतज़ार करता है. पुशर का इशारा मिलने के बाद गाड़ी चलनी शुरू होती है.

हालांकि अब पुशर को जापान से जोड़कर देखा जाता है, लेकिन इस परंपरा की शुरुआत अमरीका में हुई थी और सबसे पहले न्यूयॉर्क सिटी में भीड़ को एडजस्ट करने की कवायद शुरू हुई.

मेट्रो और लोकल की भीड़

इमेज कॉपीरइट AFP

भीड़ का सबसे ज़्यादा भार दिल्ली मेट्रो और मुंबई लोकल के कंधों पर दिखता है. ऐसे में इन दोनों शहरों में पुशर ज़रूर काम आ सकते हैं.

दिल्ली मेट्रो हर रोज़ करीब 3000 ट्रिप लगाती है और साल 2016-17 में उसमें हर रोज़ औसतन 27.6 लाख मुसाफ़िरों ने सफ़र किया. यानी साल भर में कुल 100 करोड़ लोगों ने इसका फ़ायदा लिया.

लाखों- करोड़ों का भार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसी तरह मुंबई लोकल में साल 2016-17 में हर रोज़ औसतन 75.93 लाख लोगों ने यात्रा की जबकि सालाना राइडरशिप 2.64 अरब रही.

जापान बुलेट ट्रेन चलाने में मदद दे रहा है, ऐसे में भीड़ से निपटने में भी हमें मदद की ज़रूरत है. और पुशर मुहैया कराने या ये गुर सिखाने में उसकी सहायता काम आ सकती है.

जापान में धक्का देकर ट्रेन में चढ़ाने वाले पुशर का वीडियो देखने के लिए क्लिक करें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे