'नो वन किल्ड जेसिका... नो वन किल्ड पहलू ख़ान'

  • 14 सितंबर 2017
Image caption पहलू ख़ान के रिश्तेदार

राजस्थान में अप्रैल महीने में अलवर ज़िले में भीड़ के हाथों पहलू ख़ान की हत्या के मामले में पुलिस जाँच में छह अभियुक्तों को क्लीन चिट दे दी गई है.

राजस्थान पुलिस की सी.आई.डी (सीबी) ने अपनी जाँच रिपोर्ट में कहा कि तथ्यों की पड़ताल में इन छह लोगों के विरुद्ध कोई सबूत नहीं मिले हैं.

इसके साथ ही इन छह लोगों की गिरफ़्तारी पर घोषित पांच हज़ार का इनाम भी वापस ले लिया गया है.

पहलू ख़ान के परिजनों ने इस पर दुख और गुस्से का इज़हार किया है. इस मुद्दे पर आंदोलन चलाने वाले मेवात युवा संगठन के अध्यक्ष सद्दाम हुसैन कहते हैं कि उन्हें यह सब सुनकर गहरा धक्का लगा है.

राजस्थानः कथित गौरक्षकों के हमले में एक की मौत

पड़ताल: गौसेवा करते मोदी और पहलू ख़ान के हमलावर

राजस्थान पुलिस के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सी आई डी) पंकज कुमार सिंह ने स्थानीय पत्रकार नारायण बारेठ से कहा, '' उस वक्त की कॉल रिकॉर्ड, मोबाइल फ़ोन की लोकेशन और अन्य बातों से इन छह लोगों के शामिल नहीं होने की पुष्टि होती है. लिहाज़ा इन्हें क्लीन चिट दे दी गई है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हरियाणा में नूह के रहने वाले पहलू ख़ान इसी साल एक अप्रैल को अलवर ज़िले में बहरोड़ के पास भीड़ की हिंसा के शिकार हो गए थे जब वो जयपुर से गाय लेकर अपने गांव लौट रहे थे.

पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक कथित गोरक्षकों ने पहलू ख़ान पर हमला कर दिया. उन्हें मरणासन्न हालत में एक प्राइवेट हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उन्होंने तीन अप्रैल को दम तोड़ दिया. एक पुलिस अधिकारी ने पहलू ख़ान के बयान दर्ज किए थे.

पुलिस ने इस मामले में छह लोगों को गिरफ़्तार किया था. इनमें से तीन को ज़मानत मिल गई जबकि तीन लोग अभी जेल में है, इनमें दो किशोर भी शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट NARAYAN BARETH

मेवात युवा संगठन के सद्दाम हुसैन कहते हैं,'' पुलिस ये बताए कि पहले किस आधार पर इन छह लोगों की गिरफ़्तारी के लिए इनाम घोषित किया गया था. अब यकायक ऐसा क्या हो गया कि उन्हें पाक-साफ़ मान लिया गया.''

इस घटना के बाद पुलिस जांच में कई बार बदलाव किया गया. फिर यह जांच अलवर होते हुए जयपुर स्थित पुलिस की सी आई डी शाखा को दे दी गई.

सोशल मीडिया पर गुस्सा

सोशल मीडिया पर भी पहलू ख़ान ट्रेंड कर रहा है और लोग इस बात पर नाराज़गी भी जता रहे हैं.

लोगों का कहना है, ''नौ निर्दोष लोग क्यों मुकदमे का सामना करें जबकि सच्चाई ये है कि पहलू ख़ान की मौत ब्लू व्हेल खेलते वक़्त हुई थी.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

कंवल चड्ढा ने तंज़ कसते हुए लिखा है, ''नो वन किल्ड जेसिका - नो वन किल्ड पहलू ख़ान.'' यानी ना किसी ने जेसिका लाल को मारा था और किसी ने पहलू ख़ान को नहीं मारा है.

हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापान के पीएम शिंज़ो आबे के साथ मिलकर गुजरात में सिदी सैयद मस्जिद का दौरा किया था.

अशीम नाम के टि्वटर हैंडल से इस दौरे और पहलू को जोड़ते हुए लिखा, ''प्रिय प्रधानमंत्री, सिदी सैयद मस्जिद में जाने से मुस्लिम का दिल नहीं जीता जा सकता, पहलू ख़ान को न्याय दिलाने से जीता जा सकता है.''

हालांकि कुछ लोग इस फ़ैसले का स्वागत भी कर रहे हैं.

उनका कहना है, ''पहलू ख़ान की हत्या के मामले में छह लोगों को क्लीन चिट दी गई है. जो वीडियो में नौ लोग नज़र आ रहे हैं, उनके खिलाफ़ मुकदमा चलेगा. लेकिन कुछ लोग झूठ फैलाने में लगे हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे