नज़रिया: 100 फ़ीसद बहुमत हो तो भी संविधान नहीं बदल सकता संघ

  • 15 सितंबर 2017
मोहन भागवत इमेज कॉपीरइट Getty Images

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि भारतीय संविधान में बदलाव कर उसे भारतीय समाज के नैतिक मूल्यों के अनुरूप किया जाना चाहिए.

हैदराबाद में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि संविधान के बहुत सारे हिस्से विदेशी सोच पर आधारित हैं और इसे बदले जाने की ज़रूरत है. उन्होंने कहा कि आज़ादी के 70 साल बाद इस पर ग़ौर किया जाना चाहिए.

'संविधान पर पुनर्विचार आरएसएस का 'हिडेन एजेंडा' है'

सोशल- 'कलाम ने वेद पढ़कर बनाई थी मिसाइल'

क्या आंबेडकर के लिखे संविधान को बदलने की ज़रूरत है?

इमेज कॉपीरइट EPA

संविधान तो बीच बीच में बदला जाता है, कई बार इसमें संशोधन हुए हैं, लेकिन सवाल ये है कि आरएसएस किस तरह के बदलावों की बात कर रहा है. वो सेक्यूलर संविधान को ख़त्म करके हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं.

इसकी तो इजाज़त ही नहीं है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने कई फ़ैसलों में कहा है कि धर्मनिरपेक्षता भारत के संविधान का मूल आधार है और इसमें बदलाव नहीं किया जा सकता.

चाहे उनके पास दो तिहाई बहुमत ही क्यों ना हो, संविधान को इस तरह से नहीं बदला जा सकता कि उसके मूल आधार ही ख़त्म हो जाएं.

धर्मनिरपेक्षता को संविधान का मूल स्तंभ माना गया है.

मोदी के 'न्यू इंडिया' में निखिल दधीच जैसों की भूमिका

आरक्षण पर फिर से विचार हो: मोहन भागवत

कौन तय करेगा कि 'भारतीय मूल्य' क्या हैं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हर एक व्यक्ति के लिए भारतीय मूल्य की अलग-अलग परिभाषा होती है.

भारतीय मूल्य की आरएसएस की परिभाषा ये है कि गाय के नाम पर लोगों को पीटो, सोशल मीडिया पर लोगों को ट्रोल करो, हिंदू मुस्लिम के नाम पर लोगों की लड़ाई करवाओ.

आज यही तो समस्या है कि ये सरकार आरएसएस के कहने पर और आरएसएस के दम पर ही चल रही है. इसके चलते हम ये देख रहे हैं कि इतिहास की पुस्तकों में बदलाव किए जा रहे हैं.

ऐसी चीज़ें लिखी जा रही हैं जो कोई भी इतिहासकार या इतिहास समझने वाला व्यक्ति कह सकता है कि झूठी बातें हैं. ऐसा सिर्फ धर्म के आधार पर लोगों को बांटने के लिए किया जा रहा है.

मेरा मानना है कि आरएसएस का कोई व्यक्ति संवैधानिक पद पर नहीं रह सकता क्योंकि ऐसा करने के लिए उन्हें शपथ लेनी होती है कि वो संविधान की रक्षा करेंगे.

ऐसा व्यक्ति जो कहता है कि वो धर्मनिरपेक्षता को मानते ही नहीं हैं, वो संविधान को कायम रखने की शपथ कैसे ले सकते हैं.

'रेप, लिंचिंग...शुक्र है हमारे पास सुप्रीम कोर्ट है'

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों को क्यों मारा जाता है?

क्या होती हैसंविधान बदलने की प्रक्रिया?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

संसद के दोनों सदनों यानी लोकसभा और राज्यसभा में संविधान में संशोधन का प्रस्ताव दो-तिहाई बहुमत से पारित करना होता है.

लेकिन धर्मनिरपेक्षता, लोगों में बराबरी, अभिव्यक्ति और असहमति के हक़ जैसी बुनियादी बातों में बदलाव नहीं किया जा सकता.

कई संशोधनों में राज्यों की सहमति की भी ज़रूरत होती है.

लेकिन आरएसएस भारतीय संविधान के मूल आधार को ही बदल देना चाहता है. वो हिंदुस्तान को हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं. उनको 100 प्रतिशत बहुमत मिले, तब भी वो ऐसा बदलाव नहीं कर सकते.

(बीबीसी संवाददाता मानसी दाश से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए