पूर्वोत्तर भारत में जापान के निवेश से चीन क्यों चिंतित?

  • 17 सितंबर 2017
नरेंद्र मोदी और शिंज़ो आबे इमेज कॉपीरइट Getty Images

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे के भारत दौरे में दोनों देशों के बीच कई महत्वपूर्ण समझौते हुए. इनमें भारत के पूर्वोत्तर राज्यों के विकास के लिए इंडिया-जापान एक्ट ईस्ट फ़ोरम बनाने और पूर्वोत्तर राज्यों में जापान का निवेश बढ़ाने की भी घोषणा की गई.

जब इस बारे में चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि भारत के पूर्वी हिस्से में चीन के साथ अब भी सीमांकन बाक़ी है. भारत के साथ सीमा के मोर्चे पर चीन का रुख स्पष्ट है. अभी चीन और भारत दोनों इस मुद्दे को सुलझाने में लगे हैं. ऐसी स्थिति में जब भारत और चीन सीमा विवाद को बातचीत के ज़रिए सुलझाने में लगे हैं तो किसी तीसरे देश को बीच में नहीं आना चाहिए.

उत्तर कोरिया की मिसाइलों को तबाह क्यों नहीं कर देता जापान?

मोदी की जापान डिप्लोमेसी से क्या हासिल होगा?

इमेज कॉपीरइट FMPRC.GOV.CN
Image caption चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग

चीन का विरोध

चीन में मौजूद वरिष्ठ पत्रकार सैबल दास गुप्ता मानते हैं, "चीन का विरोध अपने आप में बड़ी बात इसलिए है कि पूर्वोत्तर राज्यों में भारत कुछ 30 हज़ार करोड़ रुपए का निवेश करने जा रहा है जिसमें सड़कें और बांध हैं, इसमें ब्रह्मपुत्र नदी पर भी प्रोजेक्ट बनाने की योजनाएं हैं. चीन को उम्मीद थी कि इनमें उसे भागीदारी मिलेगी, लेकिन डोकलाम का विवाद होने के बाद भारत का चीन पर विश्वास कम हो गया है. ख़ासतौर पर पूर्वोत्तर राज्यों में विकास को लेकर इसलिए चीन तीसरे देश को लेकर विरोध कर रहा है."

सैबल दासगुप्ता कहते हैं कि ये बहाना सिर्फ़ अरुणाचल तक जायज़ हो सकता है, लेकिन अन्य पूर्वोत्तर राज्यों जैसे कि असम और मिज़ोरम में चीन का विरोध करने का औचित्य नहीं है.

वो 'पीस कमेटी' जिसके दम पर आग उगलता है उत्तर कोरिया

‘बुलेट ट्रेन के बदले में गांधी हमें दे दो’

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जापान से पुरानी दुश्मनी

दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय की प्रोफ़ेसर अनुराधा चुनॉय कहती हैं, "चीन की आपत्ति बेबुनियाद दिखती है क्योंकि पूर्वोत्तर राज्यों में कुछ ही हिस्से की सीमा विवादित है. भारत की लुक-ईस्ट नीति काफ़ी पुरानी है. पहले भी ये समझौता हुआ है कि मिज़ोरम, बांग्लादेश और म्यांमार के बीच संपर्क स्थापित हो सके. चीन इसलिए ये चाहता है कि इस क्षेत्र में जो कुछ हो उसमें उसका दावा रहे, जो हर बार संभव नहीं है."

नरेंद्र मोदी ने शिंज़ो अबे की अगवानी अपने गृह राज्य गुजरात में की साथ ही दोनों नेताओं ने आठ किलोमीटर लंबा रोड शो भी किया. इस गर्मजोशी से भारत और जापान की बढ़ती नज़दीकी साफ़ झलकी. इस पर चीन ने ये भी कहा था कि दक्षिण एशियाई क्षेत्र में साझेदारी होनी चाहिए, होड़ नहीं होनी चाहिए.

भारत और जापान को सफाई देनी चाहिए: चीन

भारत-जापान मिलकर चीन को जवाब देना चाहते हैं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डोकलाम विवाद

जापान के साथ सेनकाकू द्वीप को लेकर तनातनी भी पुरानी है और अब भारत के साथ डोकलाम विवाद के बाद भारत-जापान की नज़दीकी चीन को खल रही है क्योंकि डोकलाम विवाद को लेकर जापान ने भारत का समर्थन किया था.

सैबल दास गुप्ता का कहना है, "जहां तक उचित प्रतियोगिता का सवाल है चीन जिस कीमत पर भारत को रेल देगा उससे दोगुने दाम पर जापान से रेल भारत को मिलने जा रही है. सिर्फ़ राजनीतिक कारण ही नहीं है कि चीन असहज हो रहा है. जापान के साथ भारत के आने पर चीन का ये कहना है कि उचित प्रतियोगिता होनी चाहिए, इसके पीछे कारण ये है कि चीन सस्ता माल बेचता है इसलिए पूरी दुनिया उससे खरीदती है."

भारत-जापान मिलकर चीन को जवाब देना चाहते हैं?

चीन मामले में भारत पर जापान को भरोसा नहीं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption समुद्र में भी जापान और चीन के बीच तनातनी है

जापान के साथ रिश्ते

दक्षिण चीन सागर में प्रभुत्व को लेकर चीन कई दक्षिण एशियाई देशों के साथ भिड़ता रहा है. हालांकि, भारत ने महासागरों में स्वतंत्र आवाजाही का समर्थन किया है, जापान दक्षिण चीन सागर भारत के समर्थन की उम्मीद करता रहा है.

सैबल दास गुप्ता के मुताबिक, "चीन और जापान के बीच सौ साल से भी ज़्यादा पुरानी दुश्मनी है. इसमें सेन्काकू द्वीप के अलावा नानजिंग नरसंहार को लेकर भी तनातनी है. चीन का मानना है कि उसका एकमात्र मुक़ाबला अमरीका के करीबी जापान से है. चीन को जापान के साथ भारत की नज़दीकी पर ज़्यादा तकलीफ़ हो सकती है."

सब बदलकर 'जापानी' क्यों हो गया यह गुजराती होटल?

बुलेट ट्रेन के साथ जापान धक्का लगाने वाले भी देगा!

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
लग जा गले....

आसियान देश

प्रोफेसर अनुराधा चिनॉय कहती हैं, "चीन जापान के रिश्तों के विस्तार को पसंद नहीं करता है. आसियान देशों में जापान किसी से दोस्ती करने की कोशिश करता है तो चीन की आपत्ति साफ़ नज़र आती है."

दक्षिण चीन सागर में नौवाहनों की स्वतंत्र आवाजाही और विवादों का निपटारा शांतिपूर्ण ढंग से करने की बात भी सामने आई.

सैबल दास गुप्ता कहते हैं, "भारत की विदेशी नीति हमेशा सिद्धांतों पर निर्भर रही है लेकिन मोदी सरकार ने तीन साल में पहली बार ज़मीनी सच्चाई को देखकर विदेश नीति बनाई है. भारत ने एक तरह से चीन का ही तरीका अपनाया है. क्योंकि भारत का दक्षिण चीन सागर में स्वतंत्र आवाजाही की बात करना चीन पर दबाव बनाता है."

वो कहते हैं कि चीन के 70 प्रतिशत जहाज़ दक्षिण चीन सागर से गुज़रते हैं. वहीं, भारत के बहुत कम नौवाहन वहां से आते-जाते हैं. ये एक तरह का शतरंज है.

बुलेट ट्रेन को लेकर इतने बेताब क्यों हैं मोदी?

'पहले जो ट्रेन हैं, उन्हें तो पटरी पर रोक लो'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे