#100Women: महिलाएं जो दुनिया बदल रही हैं

  • 18 सितंबर 2017
100 Women इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीबीसी की पुरस्कार विजेता #100Women सिरीज़ फ़िर लौट आई है.

इस सालाना सिरीज़ के नए सीज़न में दुनिया भर की महिलाओं को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर प्रकाश डाला जाएगा. साथ ही इस वर्ष महिलाओं को बदलाव का मौक़ा दिया जाएगा.

हमेशा से महिलाओं के ख़िलाफ़ उत्पीड़न, असमानता और उन्हें कम दर्जे का समझने जैसे मुद्दों का सामना होता रहा है जो निराश करने के साथ-साथ अशक्त भी करते हैं. इसीलिए इस बार के सीज़न में हम महिलाओं से इन मुद्दों से निपटने के नई तरीकों के बारे में पूछेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस बार पांचवें साल #100Women की सीरीज़ में महिलाओं के पेशेवर विकास में बाधा, अशिक्षा, सार्वजनिक स्थानों पर उत्पीड़न और खेल में लिंगभेद जैसे मुद्दों से संबंधित रिपोर्टें आप तक पेश की जाएंगी.

अक्टूबर में चार विभिन्न शहरों में चार हफ़्तों तक अनुभवी और विशेषज्ञ महिलाएं साथ मिलकर इन समस्याओं से प्रभावित लोगों की मदद के लिए नए तरीकों का इजाद करेंगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अगर 100Women की यह सिरीज़ इस चुनौती में सफ़ल होती है तो यह केवल दुनिया भर की उन सभी महिलाओं के कारण होगा जिन्होंने यह समझने में मदद की, कि क्यों और कैसे यह समस्याएं बड़ा मुद्दा हैं. वे महिलाएं अपने उन विचारों को साझा करेंगी जो उन्होंने देखे.

100Women का मंच केवल विचार साझा करने तक सीमित नहीं होगा बल्कि इसको लेकर रेडियो, ऑनलाइन और सोशल मीडिया पर भी चर्चा होगी.

महिलाओं के पेशेवर विकास में बाधा जैसे मुद्दे पर जहां अमरीका के सैन फ्रांसिस्को से रिपोर्ट होगी.

वहीं, महिलाओं की अशिक्षा के मुद्दे पर दिल्ली, सार्वजनिक जगहों पर उत्पीड़न के मुद्दे पर लंदन और खेलों में लिंगवाद के मुद्दे पर ब्राज़ील के रियो से गहन चर्चा होगी लेकिन यह चर्चा वैश्विक होगी और हम दुनिया के हर कोने से महिलाओं की आवाज़ सुनना चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

100Women की ये सिरीज़ उन महिलाओं के बग़ैर बिलकुल भी पूरी नहीं हो सकती जो दुनिया बदलने के लिए कुछ अलग कर रही हैं.

इस बार की सिरीज़ में नयापन लाया गया है. 100Women की इस सिरीज़ में महीने के आख़िर तक लिस्ट में केवल 60 महिलाएं होंगी और बाकी 40 जगहें खाली रहेंगी. जैसे सीज़न आगे बढ़ेगा इसमें उन महिलाओं को शामिल किया जाता रहेगा जिन्होंने विभिन्न चुनौतियों का सामना किया हो.

100Women की संपादक फ़ियोना क्रैक कहती हैं, "2015 में महिलाओं ने 30 देशों में 10 भाषाओं में 150 से ज़्यादा चर्चाएं कीं. 2016 में यह चर्चाएं 450 तक पहुंच गई. 2017 में हम इसमें भागीदारी को एक नए स्तर पर ले जा रहे हैं. यह बहुत रोमांचक होगा, साथ ही यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या नया निकलकर आता है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस सिरीज़ को शुरू करने के लिए कुछ महिलाओं से प्रेरणा मिली है जिसके बारे में आप यहां क्लिक करके जान सकते हैं.

इसके अलावा 100Women सिरीज़ से जुड़ी बातें जानने और हमसे सोशल मीडिया पर जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक कर सकते हैं. साथ ही इस सिरीज़ से जुड़ी कोई भी बात जानने के लिए सोशल मीडिया पर #100Women इस्तेमाल करें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे