टोकोफ़ोबिया यानी बच्चा पैदा करने का डर, इस बीमारी के बारे में जानते हैं?

  • 19 सितंबर 2017
प्रेगनेंसी, गर्भावस्था, टोकोफ़ोबिया, मां, लेबर पेन, दर्द, बच्चा, परिवार, महिलाएं इमेज कॉपीरइट 1 H Media

''मुझे अपने पेट में कोई भी बाहरी चीज आने का डर लगता है.'' यह कहना है 26 साल की सामंता का.

सामंता टोकोफ़ोबिया से जूझ रही हैं. इस फ़ोबिया से पीड़ित महिलाओं को प्रेगनेंसी और बच्चों को जन्म देने से डर लगता है. विशेषज्ञों का मानना है कि दुनिया में तकरीबन 14 फ़ीसदी औरतों को यह परेशानी होती है.

सामंता बताती हैं, ''मेरे दिमाग में ये डर हमेशा बैठा रहता है. गर्भवती महिलाओं को देखकर मैं घबरा जाती हूं. यहां तक कि प्रेगनेंसी या बच्चे पैदा करने की बात सुनकर ही मुझे पसीना आने लगता है, मैं कांपने लगती हूं.''

इमेज कॉपीरइट Samantha

बच्चों के लिए काम करने वाली संस्था टॉमी के मुताबिक,''ज्यादातर महिलाएं प्रेगनेंसी को लेकर नर्वस होती हैं, जोकि सामान्य है. लेकिन टोकोफ़ोबिया इस सामान्य घबराहट से बिल्कुल अलग है.''

क्या प्रेग्नेंसी में सेक्स से परहेज करना चाहिए?

रेना ऐसी महिलाओं की मदद के लिए काम करती हैं. उन्होंने बताया,''टोकोफ़ोबिया से ग्रसित महिलाएं प्रेगनेंसी को टालने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं. वो मां बनने से इतना डरती हैं कि गर्भपात तक करा लेती हैं.''

सामंता भी हर हफ़्ते थेरेपी के लिए जाती हैं लेकिन उन्हें लगता है कि उनका परिवार और दोस्त अक्सर उन्हें समझ नहीं पाते. उन्होंने बताया,''वे कहते हैं कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं है और मैं ओवररिऐक्ट कर रही हूं.''

इमेज कॉपीरइट Laura

सामंता के पति कई साल से परिवार बढ़ाना चाहते हैं. वो बताती हैं,''मैंने अपने डर को दूर करने और गर्भनिरोधक दवा न खाने की कोशिश की लेकिन अब तो मैं डर के मारे सेक्स से भी दूर रहना चाहती हूं.''

मां बनने वाली हैं तो पर्दा क्यों?

उन्होंने आगे बताया,''मैंने कई बार अपने पति से छिपाकर दवा खाने की भी सोची, ताकि मैं प्रेगनेंट न हो जाऊं. मैं इसके लिए तैयार नहीं हूं कि कोई मेरे पेट में सांस ले, पांव चलाए और पेट में ही पले-बढ़े. मुझे अपने शरीर पर भरोसा नहीं है. मैं नहीं जानती कि मेरे दिमाग में ये डर कैसे आया.''

इमेज कॉपीरइट Magnum Photos

मिडवाइफ़ का काम करने वाली सोफ़ी किंग बताती हैं कि पहले के मुक़ाबले अब उन्हें ऐसी महिलाएं ज्यादा देखने को मिलती हैं जिनके मन में प्रेगनेंसी को लेकर डर होता है.

उन्होंने कहा, ''इसकी एक वजह यह भी है कि टोकोफ़ोबिया कहीं न कहीं एंग्जाइटी डिसऑर्डर से जुड़ा है और अब ज्यादा लोग इस डिसऑर्डर के शिकार हैं.''

प्रेग्नेंसी में कितना और क्या खाना चाहिए?

33 साल की लौरा ने भी अपने इस डर से छुटकारा पाने के लिए थेरेपी की मदद ली थी. उन्होंने कहा,''फ़िल्मों और टीवी में बच्चे के जन्म को आम तौर पर सही तरीके से पेश नहीं किया जाता है. मुझे बताया गया कि मेरी एक दोस्त को छह दिनों तक प्रसव का दर्द हुआ और उसे ऐसा लगा जैसे वो दो टुकड़ों में बंट गई है. यह सब सुनकर मेरे मन में डर बैठ गया था.''

सोफ़ी ने बताया कि टोकोफ़ोबिया दो तरह का होता है. एक तो वो जो उन महिलाओं को होता है जो पहले कभी प्रेगनेंट नहीं हुई हैं. दूसरे तरह का टोकोफ़ोबिया उन औरतों में देखने को मिलता है जो पहले प्रेगनेंट होने या मां बनने के अनुभव से गुजर चुकी हैं.

इमेज कॉपीरइट Becky

सोफ़ी का मानना है कि इसकी वजह लड़की के साथ अतीत में हुआ किसी तरह का शोषण, मानसिक तकलीफ़ या बुरे अनुभव से जुड़ी हो सकती है.

प्रेगनेंसी के दौरान महिला फिर हुई गर्भवती

एलेक्सिया भी इस परेशानी का सामना कर चुकी हैं, लेकिन अब वो खुद दूसरी औरतों को इस बारे में बताती हैं.

उन्होंने कहा,''बच्चों के जन्म के बारे में हमें बड़ी मुश्किल से कोई सकारात्मक खबर पढ़ने को मिलती है. मैं मीडिया को भी इसके लिए आगे आने को कह रही हूं.''

इमेज कॉपीरइट Laura

26 साल की बेकी का सुझाव है कि टोकोफ़ोबिया से पीड़ित महिलाओं के लिए सपोर्ट ग्रुप्स होने चाहिए. उन्हें बताया जाना चाहिए कि यह नॉर्मल है और इससे निकला जा सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे