गाय से लेकर विमान तक: विज्ञान का इतिहास बदलने वाले भारतीय

  • 23 सितंबर 2017
राइट ब्रदर्स ने किया था हवाई जहाज़ का आविष्कार इमेज कॉपीरइट HULTON ARCHIVE/GETTY IMAGES

भारत के मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह के उस बयान से लोगों की भौहें तन गई हैं जिसमें उन्होंने इंजीनियरिंग के छात्रों को भारत के प्राचीन वैज्ञानिक खोजों के बारे में सिखाने की ज़रूरत बताई है. उनका कहना था कि विमान का पहली बार ज़िक्र प्राचीन हिंदू ग्रंथ रामायण में मिलता है.

राजधानी दिल्ली में एक इंज़ीनियरिंग पुरस्कार समारोह में मुख्य अतिथि सत्यपाल सिंह ने वहां उपस्थित लोगों से यह भी कहा कि राइट ब्रदर्स से आठ साल पहले ही एक भारतीय शिवाकार बाबूजी तलपड़े ने हवाई जहाज़ का आविष्कार कर डाला था.

'यदि ये राहुल गांधी ने कहा होता तो..'

विवादित बयानों वाले योगी आदित्यनाथ

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राइट बंधु विल्बर राइट और ओरविले राइट

विज्ञान में प्राचीन भारत का योगदान

शिवाकार बाबूजी तलपड़े की इस कथित उपलब्धि की बात पर सिंह की बातों का सोशल मीडिया पर मज़ाक उड़ाया गया. हालांकि, ये भी सही है कि विज्ञान के क्षेत्र में प्राचीन भारत के योगदान के विषय में ऐसी बातें या विमान का आविष्कार करने की बात कहने वाले वो पहले भारतीय मंत्री नहीं हैं.

साल 2015 में एक प्रतिष्ठित विज्ञान सम्मेलन के दौरान एक वक्ता ने अपने दर्शकों से कहा था कि हवाई जहाज़ का आविष्कार सात हज़ार साल पहले भारद्वाज ऋषि ने किया था.

रिटायर्ड कैप्टन और पायलट ट्रेनिंग संस्थान के प्रमुख आनंद बोडास ने भी ऐसा दावा किया था कि आज के विमानों से कहीं अधिक उन्नत पहले के विमान थे जो दूसरे ग्रहों पर भी जाने में सक्षम थे.

चलिए बात करते हैं उन कुछ विवादित वैज्ञानिक दावों की जिन्होंने अपनी ओर लोगों का ध्यान आकर्षित किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption गणेश प्रतिमा

प्लास्टिक सर्जरी के गॉड

2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में डॉक्टरों और मेडिकल कर्मचारियों की एक सभा में कहा था कि भगवान गणेश की कहानी दिखाती है कि तब प्लास्टिक सर्जरी संभव थी.

मोदी ने कहा था, "हम गणेश जी की पूजा करते हैं. कोई तो प्लास्टिक सर्जन होगा उस ज़माने में, जिसने मनुष्य के शरीर पर हाथी का सिर रख के प्लास्टिक सर्जरी शुरू की होगी."

उन्होंने यह भी कहा, "महाभारत का कहना है कि कर्ण मां की गोद से पैदा नहीं हुआ था. इसका मतलब ये हुआ कि उस समय जेनेटिक साइंस मौजूद थी. तभी तो मां की गोद के बिना उसका जन्म हुआ होगा."

भारत की पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान शिव ने अपने बेटे के धड़ पर एक हाथी का सिर लगाकर उन्हें नया जीवन दिया और इसके बाद भगवान गणेश को गजानन कहकर पुकारा जाने लगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिव्य इंजीनियरिंग

पिछले महीने, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रौद्योगिकी अनुसंधान और प्रबंधन संस्थान (आईआईटीआरएएम) में हिंदू ग्रंथ रामायण के नायक राम के इंजीनियरिंग कौशल की प्रशंसा की.

उन्होंने कहा था, "रामायण के अनुसार भगवान राम ने अपनी अपहृत पत्नी सीता को रावण के चंगुल से छुड़ाने के लिए श्रीलंका तक एक पुल का निर्माण किया था और आज भी इस राम सेतु के अवशेष हिंद महासागर में देखे जा सकते हैं. कई हिंदुओं को इस पर यकीन है ये वही सेतु है जिसे भगवान राम ने बनाया था."

रूपाणी ने कहा, "सोचिए, राम किस तरह के इंजीनियर थे जिन्होंने भारत और श्रीलंका को जोड़ने के लिए पुल बना दिया था. यहां तक की गिलहरियों ने भी पुल बनाने में उनकी मदद की थी. आज भी लोग कहते हैं कि राम सेतु के अवशेष समंदर में हैं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गाय छोड़ती ऑक्सीजन

इसी साल जनवरी में राजस्थान के शिक्षा और पंचायती राज मंत्री वासुदेव देवनानी लोगों को गाय के वैज्ञानिक महत्व को समझा रहे थे. इस दौरान उन्होंने ये कहकर लोगों को चौंका दिया कि 'गाय एकमात्र जीव है जो केवल ऑक्सीजन लेती और छोड़ती' है.

उन्होंने इसके लिए कोई तथ्य पेश नहीं किया जबकि हाल में नासा ने भी अपनी रिपोर्टों में स्पष्ट किया है कि गायों के डकार में बड़ी मात्रा में हानिकारक मीथेन गैस निकलती है.

मीडिया में उनका बयान आने के बाद देवनानी का मज़ाक उड़ाया गया.

गायों की डकार धरती के लिए खतरा

गायों ने इतनी छोड़ी गैस कि हो गया धमाका

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे