तेलंगाना के किसान 24 घंटे बिजली का विरोध क्यों कर रहे हैं?

  • 28 सितंबर 2017
तेलंगाना किसान इमेज कॉपीरइट Getty Images

तेलंगाना के किसान गांवों में 24 घंटे बिजली दिए जाने से परेशान हैं. उन्हें डर है कि लगातार बिजली दिए जाने से ज़मीन से पानी की निकासी अधिक होगी और उन्हें भविष्य में सूखा का सामना करना पड़ेगा.

येर्रम अंजीरेड्डी ने बीबीसी तेलुगू से कहा, "मोटर ज़मीन से पानी की निकासी करेंगे तो उनके बोरिंग के कुएं सूख जाएंगे."

सरकार ने जुलाई में घोषणा की थी कि राज्य के तीन ज़िलों को 24 घंटे बिजली मुहैया कराई जाएगी.

लेकिन किसानों की मांग है कि बिजली में नौ घंटे तक कटौती की जाए.

जहां देश के नेता चुनावों के वक्त 24 घंटे बिजली देने का वादा करते हैं, किसानों की यह मांग अजीब सी प्रतीत होती है.

तेलंगाना की जनजाति थोती की कल्याणी ने रचा इतिहास

Image caption येर्रम अंजीरेड्डी ने कहा कि 24 घंटे बिजली से जमीन से पानी की निकासी अधिक होगी, जिससे सूखा आ सकता है

अधिकतर किसानों के पास ऐसे मोटर हैं, जो बिजली आते ही चालू हो जाती है. किसानों का कहना है कि मोटर बंद करने पर भी उन्हें पानी की कमी झेलनी पड़ सकती है क्योंकि दूसरे किसान इसे चालू छोड़ देंगे.

तीनों ज़िलों में जल स्तर तेजी से घटा है, जिससे सूखे की स्थिति उत्पन्न हुई है. यहां अधिकतर किसान बोरिंग के कुएं से पानी निकालते हैं.

अंजीरेड्डी कहते हैं, "हमलोग किसानी के लिए पूरी तरह से बोरिंग के कुएं पर आश्रित हैं. 24 घंटे बिजली हमारे भविष्य के लिए बड़ा ख़तरा है."

मुफ़्त है तो क्या...'घटिया क्वालिटी' की साड़ी नहीं चाहिए

तेलंगाना ने आंध्र प्रदेश को कहा 'नकलची'

अधिकारियों ने बीबीसी को बताया कि 24 घंटे बिजली न देने से संबंधित किसानों के आवेदन मिले हैं. मेडक, नलगोंडा और करीमनगर में करीब दस लाख किसान हैं.

एक अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि बिजली 24 घंटे न देकर 12 घंटे दी जा रही है, हालांकि कटौती की आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है.

नलगोंडा जिला के किसान सतीश कहते हैं, "हमलोगों ने 9 घंटे बिजली बाधित करने को कहा था लेकिन वो 12 घंटे बिजली काट रहे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे