मशहूर अभिनेता और पद्मश्री टॉम ऑल्टर का निधन

  • 30 सितंबर 2017
टॉम ऑल्टर इमेज कॉपीरइट Getty Images

फ़िल्म, टेलीविजन और थियेटर जगत के जाने-माने अभिनेता टॉम ऑल्टर का शुक्रवार रात मुंबई में निधन हो गया. वो 67 वर्ष के थे.

टॉम ऑल्टर लंबे समय से स्किन कैंसर से जूझ रहे थे. हिंदी सिनेमा में अभूतपूर्व योगदान के लिए टॉम को साल 2008 में पद्मश्री से नवाज़ा गया था.

उनके परिवार में उनकी पत्नी कैरल इवान और बेटा जैमी और बेटी अफ़शान हैं.

टॉम के मैनेजर ने मुंबई स्थित बीबीसी हिंदी की सहयोगी सुप्रिया सोगले को बताया कि शुक्रवार रात करीब 9.30 बजे टॉम ने मुंबई स्थित अपने घर में अंतिम सांस ली.

फ़िल्मी सफर

हिंदी और उर्दू भाषा में अपनी ज़बरदस्त पकड़ के चलते टॉम ऑल्टर ने भारतीय सिनेमा में अपनी ख़ास जगह बनाई थी. उन्होंने साल 1976 में फ़िल्म 'चरस' के साथ अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की. इस फ़िल्म में उन्होंने कस्टम अधिकारी का रोल अदा किया था.

उन्होंने शतरंज के खिलाड़ी, हम किसी से कम नहीं, क्रांति, कर्मा, परिंदा जैसी कई फ़िल्मों में शानदार अभिनय कर भारतीय सिने जगत में अपनी अलग पहचान बनाई. टॉम ने करीब 300 फ़िल्मों में काम किया.

छोटे पर्दे पर भी टॉम ने लोगों का मनोरंजन किया. उन्होंने ज़बान संभाल के, कैप्टन व्योम और शक्तिमान जैसे कई लोकप्रिय धारावाहिकों में अभिनय किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

खेल पत्रकार

फिल्मों में अभिनय के अलावा टॉम ने 80 से 90 के दशक में खेल पत्रकार के रूप में भी अपनी पहचान बनाई. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का सबसे पहला वीडियो इंटरव्यू टॉम ऑल्टर ने ही किया था. उस समय सचिन ने भारतीय टीम में अपना डेब्यू भी नहीं किया था.

क्रिकेट पर उनके लेख हमेशा ही अलग-अलग खेल पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते थे. टॉम ऑल्टर ने तीन किताबें भी लिखीं. द लॉन्गेस्ट रेस, री-रन एट रिएल्टो और द बेस्ट इन द वर्ल्ड.

निजी जीवन

साल 1950 में मसूरी में जन्मे टॉम ऑल्टर के माता-पिता अमरीकी मूल के थे और उनका मूल नाम थॉमस बीट ऑल्टर है. उनके दादा-दादी 1916 में अमरीका से भारत आए थे.

टॉम का परिवार पानी के रास्ते चेन्नई आया था और वहां से लाहौर गया. उनके पिता का जन्म सियालकोट में हुआ जो अब पाकिस्तान में है.

बंटवारे में उनका परिवार बंट गया. दादा-दादी पाकिस्तान में रह गए जबकि उनके माता-पिता भारत आ गए.

फ़िल्मों की तरफ टॉम का आकर्षण अराधना फिल्म की वजह से हुआ. इस फिल्म में राजेश खन्ना और शर्मिला टेगौर के अभिनय ने टॉम को बहुत अधिक प्रभावित किया. टॉम ने साल 1972-74 में पुणे स्थित फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) से एक्टिंग की पढ़ाई की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे