बिहार के नवादा ज़िले के 4 गांवों में एक भी मुस्लिम परिवार नहीं, पर मनाया जाता है मुहर्रम

  • 1 अक्तूबर 2017
धर्मेंद्र के फुफेरे भाई मनोज राजवंशी (दाएं) मुहर्रम के दौरान पैकार बनते हैं इमेज कॉपीरइट SATISH KUMAR
Image caption धर्मेंद्र के फुफेरे भाई मनोज राजवंशी (दाएं) मुहर्रम के दौरान पैकार बनते हैं

इस्लाम धर्म के पैगंबर हज़रत मोहम्मद के नवासे इमाम हुसैन की शहादत की याद में दुनिया भर के मुसलमान मुहर्रम के दिन मातम मनाते हैं.

भारत के कई हिस्सों में हिंदू परिवार भी मुहरर्म में शामिल होते हैं.

लेकिन बिहार के कुछ गांव ऐसे भी हैं जहां कोई मुस्लिम परिवार नहीं रहता, लेकिन इन गांवों में हर साल मुहर्रम मनाया जाता है.

जब नवाब ने मुहर्रम के दिन होली मनाई

'दशहरे में भारतीय बाज़ारों का ही सहारा'

इमेज कॉपीरइट SATISH KUMAR
Image caption ताज़िया बनाते धर्मेंद्र राजवंशी

चार गांवों में मनता है मुहर्रम

बिहार के नवादा ज़िले के रोह प्रखंड में करीब दस किलोमीटर के दायरे में ऐसे चार गांव हैं जहां एक भी मुस्लिम परिवार नहीं रहने के बावजूद मुहर्रम मनाया जाता है.

घोराही गांव के धर्मेंद्र राजवंशी बताते हैं, "मैंने अपने दादा और पिताजी को मुहर्रम मनाते देखा है और उनकी इस परंपरा को आज मैं भी निभा रहा हूं. एक मन्नत पूरा होने के बाद उन्होंने मुहर्रम मनाना शुरू किया था."

इमेज कॉपीरइट SATISH KUMAR
Image caption रविवार को गांव वाले मिलकर ताजिया घुमाएंगे

रीति रिवाज़ से मनाया जाता है मुहर्रम

पेशे से ड्राइवर धर्मेंद्र को याद नहीं कि वो मन्नत कौन सी थी. उन्होंने इस साल भी मुहर्रम मनाने की तैयारी पूरी कर ली है.

वे कहते हैं, "हमने ताज़िया भी तैयार कर लिया है. रविवार को गांव वाले मिलकर ताज़िया घुमाएंगे. इस दौरान गांव वाले कागज का ताज़िया और मिठाई चढ़ाते हैं और फिर मौलवी को बुलाकर कर्बला में इसका विसर्जन कर दिया जाता है."

धर्मेंद्र के फुफेरे भाई मनोज राजवंशी मुहर्रम के दौरान पैकार बनते हैं.

पैकार यानी मोर पंख, घंटी और बदन पर रस्सी बांधकर सज-धज के तैयार होने वाले वो लोग जो मुहर्रम के दौरान गांव-गांव घूमते हैं.

इमेज कॉपीरइट SATISH KUMAR
Image caption गांव कटहरा के कामेश्वर पंडित (दाएं)

एक भी मुस्लिम परिवार नहीं

मनोज ने बताया, "हम भी धर्मेंद्र की सेवा में लगे हुए हैं. आज और कल (शुक्रवार और शनिवार) को मिलाकर हम लोग छह-सात गांव घूम चुके हैं."

घोराही गांव से थोड़ी दूरी पर बसा गांव नजामत-कटहरा है.

गांव वालों के मुताबिक यहां के जमींदार कभी मुसलमान हुआ करते थे, लेकिन आज यहां एक भी मुस्लिम परिवार नहीं रहता.

गांव के दलित पूरी आस्था से मुहर्रम मनाते हैं. वे मुहर्रम की तैयारी चांद रात से ही शुरू कर देते हैं.

इमेज कॉपीरइट SATISH KUMAR
Image caption रामविलास राजवंशी कहते हैं, "मुहर्रम की तैयारी चांद रात से ही शुरू कर देते हैं."

12 फ़ीट का ताज़िया

इस गांव के किसान रामविलास राजवंशी ने बताया, "इस बार हमने करीब बारह फ़ीट का ताज़िया बनाया है. हम कुछ अपना पैसा और खुशी से मिले चंदे को मिलाकर ताज़िया बनाते हैं, मुहर्रम मनाते हैं."

रामविलास के मुताबिक रविवार को इस गांव के लोग अपने यहां ताज़िया घुमाने के बाद इसका मिलन घोड़यारी के ताज़िया से कराएंगे.

वहीं पास के ही एक दूसरे गांव कटहरा के कामेश्वर पंडित के मुहर्रम मनाने की कहानी थोड़ी अलग हैं.

इमेज कॉपीरइट SATISH KUMAR
Image caption इस बार करीब बारह फ़ीट का ताज़िया बनाया गया है

...तो आंखों की रोशनी सुधर गई

पेशे से कुम्हार कामेश्वर बताते हैं, "दादा जी मुहर्रम मनाते थे लेकिन पिताजी ने घर पर ये त्योहार मनाना छोड़ दिया. लेकिन जब मुझे देखने में परेशानी होने लगी तो मैंने एक इमाम साहब के कहने पर फिर से अपने यहां पूरे रीति-रिवाज से मुर्हरम मनाना शुरू किया."

कामेश्वर ने करीब दस साल पहले फिर से मुहर्रम मनाना शुरू किया था.

उनके मुताबिक इसे मनाना शुरू करने के बाद उनके आंखों की रोशनी सुधरी है.

कामेश्वर अपने भाई के साथ मिल कर मुहर्रम की पूरी तैयारी करते हैं और ताजिए के दिन पूरा गांव श्रद्धा के साथ जुलूस में शामिल होता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे