दिवाली मनाने अयोध्या में होंगे योगी आदित्यनाथ

  • 17 अक्तूबर 2017
अयोध्या इमेज कॉपीरइट AFP

ऐसा कहा जाता है कि पिता से वनवास पाने के बाद भगवान राम ने पूरे चौदह साल अयोध्या से बाहर बिताए.

इसी कथानक के बाद 'वनवास' और 'चौदह साल' एक दूसरे के पूरक से बन गए और 'चौदह साल के वनवास' का मुहावरा ही चल निकला.

अयोध्या पर मोदी सरकार के रुख़ के मायने क्या हैं?

अयोध्या: 'अपराधों के फ़ैसले के बिना समझौता कैसे?'

ये संयोग ही है कि नब्बे के दशक में अयोध्या मुद्दे की राजनीतिक गर्माहट के बाद उत्तर प्रदेश में सत्ता पाने वाली भारतीय जनता पार्टी राज्य में सत्ता से जब बेदख़ल हुई तो उसे भी सत्ता में वापसी करने में चौदह साल लग गए.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

राज्य की बीजेपी सरकार भगवान राम की वापसी और सरकार की वापसी, दोनों का जश्न एक साथ मनाने की तैयारी कर रही है.

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने सत्ता सँभालने के बाद विजयदशमी का पर्व भले ही गोरखपुर में मनाया लेकिन दिवाली मनाने वो गोरखपुर से अयोध्या पहुंच रहे हैं.

ये कहते हैं कि लंका के राक्षसों का वध करके भगवान राम जब अयोध्या लौटे थे तो पूरे अयोध्या को दीपों से सजाया गया था और फिर उनके राज्याभिषेक के पर्व से ही इस त्योहार की शुरुआत हुई.

पूरा शहर होगा जगमग

उत्तर प्रदेश सरकार पूरे अयोध्या को न सिर्फ़ दीपों से सजाने जा रही है बल्कि बिजली की झालरों, रंगोलियों, बल्बों, लेज़र शो आदि के माध्यम से भी पूरे शहर को जगमग किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

यही नहीं, इस दीपोत्सव में 'पुष्पक विमान' भी होगा, रथ होगा, घुड़सवार होंगे, सैनिक होंगे और भालू-बंदर भी होंगे.

ये कहने का मतलब ये कि पुरातन और नूतन का ऐसा सुखद संगम तैयार किया गया है कि देखने वाले दाँतों तले उंगलियां दबा लेंगे.

छोटी दिवाली पर होने वाले दीपोत्सव कार्यक्रम में एक लाख इकहत्तर हज़ार मिट्टी के दिये जहां सरयू नदी के तट को रोशन करेंगे.

वहीं, दिन में निकलने वाली भगवान राम की शोभा यात्रा की अगवानी ख़ुद मुख्यमंत्री करेंगे.

अयोध्या में तो कई राम जन्म स्थान हैं: आज़म ख़ान

उनकी कैबिनेट के ढेरों मंत्री तो होंगे ही महेश शर्मा, केजे अल्फ़ोंस जैसे कई केंद्रीय मंत्री भी उनका साथ देंगे.

दिये जलाने की ज़िम्मेदारी अवध विश्वविद्यालय के क़रीब दो हज़ार छात्रों को सौंपी गई है, या यों कहिए कि ज़िम्मेदारी उन्होंने ली है.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

मेहमान और वीआईपी काफी ज़्यादा हैं इसलिए भगवान राम की अगवानी के लिए कितने अयोध्यावासी शामिल होंगे, ये देखने वाली बात होगी.

लेकिन व्यवस्था ऐसी रखी गई है कि शोभायात्रा को 'त्रेतायुगीन फ़ील' देने में कोई क़सर न रह जाए और इसीलिए असली भालू-बंदरों को यात्रा में शामिल किया जा रहा है.

त्रेता युग का एहसास

शोभायात्रा के दौरान हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा की जाएगी ताकि लोगों को पुष्पक विमान का भी अहसास कराया जा सके.

जब से इस ऐतिहासिक दिवाली को मनाने की घोषणा हुई है तब से उसकी तैयारियों का जायज़ा लेने के लिए मंत्रियों और अधिकारियों के अयोध्या जाने का क्रम बना हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी बताते हैं, "सारा इंतज़ाम पर्यटन मंत्रालय, सूचना विभाग, अवध विश्वविद्यालय और फ़ैज़ाबाद प्रशासन की ओर से किया जा रहा है और इसका ख़र्च राज्य सरकार उठा रही है. हां, कुछ स्थानीय लोग भी अपनी तरह से इसमें सहयोग कर रहे हैं."

दिवाली के मौक़े पर चूंकि बड़ी संख्या में सरकार के लोग रहेंगे तो अयोध्या के लिए कई परियोजनाओं की भी घोषणा होगी. केंद्र सरकार ने इसके लिए 130 करोड़ रुपये भी स्वीकृत कर दिए हैं.

एनजीटी ने कोई अड़ंगा न लगाया तो राज्य सरकार अयोध्या में सरयू नदी के तट पर भगवान राम की 108 फीट ऊंची ऐसी प्रतिमा स्थापित करने जा रही है, जैसी पूरी दुनिया में नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

राज्य सरकार का कहना है कि अयोध्या को पर्यटन के मानचित्र पर लाने के लिए ये सारी क़वायद हो रही है लेकिन अयोध्या में इतनी दिलचस्पी को लेकर सरकार की नीयत पर सवाल भी उठ रहे हैं.

असदुद्दीन ओवैसी के अलावा अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में प्रमुख पैरवीकार और हाईकोर्ट के वकील ज़फ़रयाब जिलानी कहते हैं कि ये सब न सिर्फ़ करदाताओं के पैसों का दुरुपयोग है बल्कि संविधान भी इसकी इजाज़त नहीं देता.

अयोध्या में तो कई राम जन्म स्थान हैं: आज़म ख़ान

'अयोध्या विवाद: नाउम्मीद थे हाशिम अंसारी'

ज़फ़रयाब जिलानी के मुताबिक, "अयोध्या में न तो भगवान राम की प्रतिमा लगवाने में कोई बुराई है और न ही दिवाली मनाने में. लेकिन करदाताओं के पैसे से ये सब काम करना ग़ैर संवैधानिक है. सरकार को किसी ख़ास धर्म का प्रचार नहीं करना चाहिए."

संदेश देने की कोशिश

वहीं जानकारों का कहना है कि इतने भव्य आयोजन के माध्यम से बीजेपी एक ख़ास संदेश देना चाहती है. अयोध्या में राम मंदिर का मामला सुप्रीम कोर्ट में भले ही हो लेकिन वो ये बताने से कभी नहीं चूकती कि ये उसके एजेंडे में है और पार्टी इसे भूली नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Samiratmaj Mishra

वरिष्ठ पत्रकार सुनीता ऐरन कहती हैं, "जहां तक पर्यटन की बात है तो उसके लिए सिर्फ़ अयोध्या पर ही इतना ज़ोर देने का मक़सद साफ़ है. हालांकि और धार्मिक स्थलों पर भी आयोजन होते रहे हैं और वहां भी सरकार या प्रशासन का सहयोग रहता रहा है लेकिन अयोध्या को लेकर जो इतना सब किया जा रहा है, ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया और ज़ाहिर है, यदि इतना दिखाया जा रहा है तो निश्चित तौर पर उसके पीछे कोई मक़सद है."

सुनीता ऐरन कहती हैं कि धार्मिक स्थल मथुरा भी है, दूसरे और भी हैं, अन्य धर्मों के भी हैं लेकिन यदि एक ही जगह पर इतना धूम-धड़ाका किया जाएगा, वो भी उस जगह के लिए जो बीजेपी के लिए कितनी महत्वपूर्ण है, ये सबको पता है तो सवाल उठना लाजिमी है.

बहरहाल, आयोजन के पीछे राजनीतिक मक़सद हो या न हो, अभी तक राजनीतिक प्रतिक्रियाओं से ये बचा हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे