'ताजमहल भारत मां के सपूतों की कमाई से बना': योगी आदित्यनाथ

  • 17 अक्तूबर 2017
योगी इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय जनता पार्टी के विधायक संगीत सोम के ताजमहल से जुड़े विवादित बयान के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके बाद पुरातात्विक महत्व को स्वीकार करने वाला बयान दिया है.

उन्होंने कहा है, "हमें इसकी तह में जाने की जरूरत नहीं है कि ताजमहल क्यों, किसने और किस उद्देश्य से बनाया. महत्वपूर्ण ये है कि ताजमहल भारत के मजदूरों और भारत माता के सपूतों के खून-पसीने की कमाई से बना हुआ है. वह एक पुरातात्विक इमारत है जिसका संरक्षण और संवर्धन जरूरी है. वह अपनी वास्तु के लिए विश्व विख्यात है."

पश्चिमी यूपी के सरधाना से विधायक संगीत सोम ने मेरठ में एक सभा को संबोधित करते हुए ताजमहल के बारे में कहा था, "कैसा इतिहास? उसको बनाने वाला हिंदुओं को मिटाना चाहता था."

उनके इस बयान की चौतरफा निंदा हुई और विपक्षी दलों ने भी बीजेपी पर निशाना साधा.

आज़म का पलटवार, संसद भवन भी गिरा दो!

'...तो भाजपा नेता रोमांस के दुश्मन हैं?'

इमेज कॉपीरइट TWITTER/SOM_SANGEET

ताजमहल के लिए 370 करोड़ की योजना

इसके बाद योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए ताजमहल के बारे में यूपी सरकार की योजना के बारे में जानकारी दी.

योगी ने कहा, "ताजमहल देखने वाले पर्यटकों की सुविधा और सुरक्षा का दायित्व यूपी सरकार का है. हम इसका निर्वहन करेंगे. मैं स्वयं 26 अक्टूबर को आगरा जा रहा हूं. हमने आगरा के लिए 370 करोड़ रुपये की एक कार्ययोजना बनाई है."

उन्होंने कहा, "खासतौर पर ताजमहल का निर्माण लकड़ी के बड़े बड़े स्लैब नींव पर हुआ है. यमुना में अविरल पानी बहने के दौर में पानी आते-जाते रहने से ये नींव मजबूत बनी हुई थी. लेकिन यमुना के पानी में कमी आने की वजह से आज इन स्लैब में सिकुड़न है. ऐसे में वहां पर रबर डैम बनाने, रिवर फ्रंट का निर्माण और किले और ताजमहल के बीच रास्ते के निर्माण की कार्य-योजना तैयार की गई है."

'क्या मोदी लाल किला से तिरंगा फहराना छोड़ देंगे?'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ताजमहल को लेकर हालिया विवाद की शुरुआत तब हुई जब राज्य सरकार की पर्यटक स्थलों की सूची से इसे बाहर कर दिया गया था.

कुछ दिन पहले धार्मिक और सांस्कृतिक मामलों के मंत्री लक्ष्मी नारायन चौधरी ने सूची से ताजमहल को बाहर किए जाने को सही ठहराया था और इसकी जगह गुरु गोरखनाथ पीठ को रखने की दलील थी.

'ताजमहल को मुसलमान ने बनवाया, इसलिए हो रहा है नज़रअंदाज़'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए